Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात पुलिस का स्पेशल ट्रैफिक ड्राइव, हेलमेट के साथ मास्क पहनना अनिवार्य

गुजरात पुलिस का स्पेशल ट्रैफिक ड्राइव, हेलमेट के साथ मास्क पहनना अनिवार्य

0
810
  • कोरोना काल में शुरू हुआ स्पेशल ट्रैफिक ड्राइव
  • हेलमेट के साथ मास्क पहनना अनिवार्य
  • 9 सितंबर से 20 सितंबर तक चलेगा खास अभियान

अहमदाबाद: शहर में आज से स्पेशल ट्रैफिक ड्राइव शुरू होने वाला है. जिसमें हेलमेट नहीं पहनने वालों के खिलाफ जुर्माना का आदेश दिया गया है.

 

यह ड्राइव 9 सितंबर यानी आज से 20 सितंबर तक चलेगी. इस सिलसिले में जानकारी देते हुए राज्य के मुख्यमंत्री रूपाणी ने कहा, “जुर्माना की राशि वसूलने के लिए, पुलिस या आरटीओ को आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध कराने होंगे.

यह दस्तावेज केंद्र सरकार के डिजिटल लोकर या फिर एम परिवह एप के किसी भी माध्यम के तहत दिखाया जा सकता है.

20 सितंबर तक चलेगा खास अभियान

यदि आपके पास लाइसेंस, बीमा और पीयूसी जैसे दस्तावेज नहीं हैं, तो आपको पहली बार 500 रुपये और दूसरी बार 1000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा.

फोर व्हीलर गाड़ी में डार्क फिल्म लगाने पर पहली बार 500 रुपये का जुर्माना और दूसरी बार 1000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा.

गाड़ी चलाने के दौरान अगर मोबाइल से बातचीत करते हुए पकड़े जाते हैं तो पहली बार 500 रुपये का जुर्माना और दूसरी बार इसे बढ़ाकर 1000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा.

इसके अलावा गलत जगह पर पार्किंग करने के लिए पहली बार 500 रुपये और दूसरी बार 1000 रुपये का मेमो दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें: गुजरात: कोरोना से प्रभावित इलाकों का भ्रमण करेगा ‘कोविड विजय रथ’

डिजिटल दस्तावेजों को दिखाने की अनुमति

16 सितंबर से नए संशोधन के अनुसार वाहन चालक को डिजिटल दस्तावेजों को दिखाने की अनुमति दी गई है. अगर हार्ड कॉपी के साथ नहीं तो डिजिटल तरीके से भी अपने दस्तावेज दिखाया जा सकता है.

लेकिन बिना लाइसेंस गाड़ी चलाने वाले के साथ ही साथ गाड़ी मालिक पर भी जुर्माना लगाने का फैसला किया गया है. इतना ही नहीं रेस करने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी.

हेलमेट न पहनने पर 500 रुपये का जुर्माना, आरसी बुक और बीमा नहीं होने पर 500 रुपया पहली बार, अगर ऐसा करते हुए दूसरी बार पकड़े गए तो जुर्माना की राशि बढ़ाकर दोगुना कर दी जाएगी.

गौरतलब है कि इससे पहले राज्य सरकार ने शहरी इलाके में हेलमेट अनिवार्य नहीं करने का फैसला किया था.

इस सिलसिले में जानकारी देते हुए आर सी फणदु ने कहा कि लोगों की शिकायत को मद्देनजर रखते हुए आज कैबिनेट की मीटींग में ये फैसला लिया गया है कि शहरी इलाके में हेलमेट “फरजियात नहीं बल्कि मरजियात” होगा.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सिंघम के तेवर में नजर आई सूरत पुलिस, सड़क पर लेटाकर की युवक की पिटाई