Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात: GUJCET परीक्षा का आंसर की हुआ जारी, आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध

गुजरात: GUJCET परीक्षा का आंसर की हुआ जारी, आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध

0
300
  • आधिकारिक वेबसाइट gujcet.gseb.org पर है रिजल्ट
  • 1 सितम्बर 2020 तक दर्ज करा सकते हैं आपत्ति
  • 24 अगस्त 2020 को कराई गई थी परीक्षा

GUJCET 2020 News : देश में जारी कोरोना संकट के बीच गुजरात सेकेंड्री एंड हायर सेकेंड्री एजुकेशन बोर्ड (जीएसएचएसईबी) ने कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (GUJCET 2020) की प्रोविजनल आंसर की जारी कर दिया है. बोर्ड द्वारा जारी आंसर की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है. इसे आधिकारिक वेबसाइट gujcet.gseb.org पर देखा जा सकता है.

ऐसे अभ्यर्थी जो इस बार जीयूजेसीईटी 2020 की परीक्षा में बैठे थे वे अपने मार्क्स आंसर की से मिलान करके चेक कर सकते हैं.

अभ्यर्थी प्रोविजनल आंसर की डाउनलोड करने के लिए ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर “provisional answer key” पर क्लिक करें.

क्लिक करने के बाद नए पेज पर मांगी गयी जानकारी को भरकर आंसर की डाउनलोड कर सकते हैं.

आपत्ति भेजने के लिए 1 सितंबर का वक्त

जीयूजेसीईटी 2020 परीक्षा की प्रोविजनल आंसर की, को लेकर अगर अभियार्थी को कोई शिकायत है तो बोर्ड के जारी किए गए की के खिलाफ अपनी आपत्ति 1 सितम्बर 2020 शाम 5:00 बजे तक बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर दर्ज करा सकते हैं.

आपत्ति दर्ज कराने के लिए अभ्यर्थी को प्रत्येक आपत्ति के लिए 500/-रूपए के हिसाब से शुल्क भी जमा करना होगा.

खबर है कि बोर्ड ने प्रश्न पत्र में हुई गलतियों के लिए अभ्यर्थियों को कॉमन अंक प्रदान करने का फैसला लिया है. इसके मुताबिक, इंग्लिश मीडियम के अभ्यर्थियों को 2 अंक और हिंदी मीडियम के अभ्यर्थियों को 1-1 अंक प्रदान किया जाएगा.

क्या है GUJCET

गुजरात के इंजीनियरिंग और फार्मेसी कोर्सों में दाखिले के लिए यह GUJCET परीक्षा हर साल आयोजित की जाती है. इस परीक्षा के आयोजन का जिम्मा GSHSEB को सौंपा गया है.

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी ने व्हाट्सएप और भाजपा के बीच सांठगांठ के आरोप लगाए

इस परीक्षा के जरिए गुजरात के अनुदान प्राप्त और स्व-वित्तपोषित इंजीनियरिंग संस्थानों में दाखिला लिया जाता है.

GUJCET की परीक्षा पहले 31 मार्च 2020 को आयोजित की जानी थी लेकिन राज्य में कोरोना महामारी को देखते हुए इसे 31 मार्च को स्थगित कर दिया गया था. इसके बाद GUJCET- 2020 की परीक्षा 24 अगस्त 2020 को कराई गई.

एक लाख 27 हजार परीक्षार्थियों ने लिया भाग

गुजरात माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (जीएसईबी) की ओर से ली जा रही इस परीक्षा में राज्य भर में इस वर्ष एक लाख 27 हजार 230 परीक्षार्थियों ने शिरकत की.

कोरोना महामारी के बीच GUJCET परीक्षा में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क का भी विशेष ध्यान रखा गया. इसके लिए 34 शहरों में 631 परीक्षा केन्द्र बनाए गए थे. वहीं 6431 परीक्षा खंड में बैठक व्यवस्था की गई थी.

कोरोना का संक्रमण ना फैले इसके लिए जरूरी सावधानी बरतने के लिए प्रधान शिक्षा सचिव की ओर से राज्य के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों, कलक्टर, महानगर पालिका के आयुक्तों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद कर सुविधाएं सुनिश्चित करने और सावधानी बरतने के निर्देश दिए थे.

टेम्परेचर गन से तापमान मापने के बाद ही परीक्षार्थियों को परीक्षा खंड में प्रवेश दिया गया. सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क अनिवार्य बनाया गया था.
साथ ही परीक्षा खंड की खिड़की और दरवाजे खुले रखने के निर्देश थे. परीक्षा खंड को सेनिटाइज करने के भी निर्देश दिए गए गए थे. इन सभी बातों की जांच के लिए प्रत्येककेन्द्र पर एक ऑब्जरवर की भी नियुक्ति की गई थी.

मेडिकल छात्रों को मिली है राहत

उधर राज्य में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच गुजरात सरकार ने बुधवार को घोषणा की है कि जुलाई में होने वाले मेडिकल डेंटल और पैरामेडिकल छात्रों के सेमेस्टर फीस का भुगतान चार किस्तों में किया जा सकता है. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि कोरोना के कारण राज्य में पड़े आर्थिक प्रभाव के बीच इससे छात्रों को कुछ राहत मिलेगी.

इस कदम से राज्य भर के 515 सरकारी, सरकारी अनुदान प्राप्त और स्व-वित्तपोषित मेडिकल कॉलेजों के छात्रों को लाभ मिलेगा.

इससे राज्य भर के 35,151 छात्रों को फायदा होगा. इनमें होम्योपैथी और आयुर्वेदिक के छात्र भी शामिल हैं.

राज्य के 6 सरकारी मेडिकल कॉलेजों, 8 GMERS मेडिकल कॉलेजों, 3 नगर निगम द्वारा संचालित मेडिकल कॉलेजों और 11 स्व-वित्तपोषित मेडिकल कॉलेजों में सेमेस्टर फीस के लिए किस्त प्रणाली की पेशकश की जाएगी.

कुल मिलाकर इसमें 28 मेडिकल कॉलेज के 5,360 छात्रों के अलावा 13 डेंटल कॉलेजों के 1,255 डेंटल छात्र शामिल हैं.

पटेल ने कहा कि फीस का भुगतान सितंबर से शुरू होने वाली चार किस्तों में किया जा सकता है.

प्रत्येक चार किश्तों में फीस का 25% भुगतान किया जा सकेगा.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें