Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात: केमिकल माफियाओं के खिलाफ पासा के तहत मुकदमा दर्ज करने की उठी मांग

गुजरात: केमिकल माफियाओं के खिलाफ पासा के तहत मुकदमा दर्ज करने की उठी मांग

0
344

गांधीनगर: गुजरात में आपराधिक गतिविधियों पर काबू पाने के लिए राज्य सरकार ने पासा कानून का दायरा बढ़ाकर अब जुआ और शराब का कारोबार करने वाले लोगों के खिलाफ भी पास के तहत कार्रवाई कर रही है.

इसलिए अब मांग उठने लगी है कि लोगों की जिंदगी को खतर में डालने वाले केमिकल माफियाओं के खिलाफ भी पासा के तहत मुकदमा दर्ज किया जाए. Gujrat chemical mafia

अहमदाबाद पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखकर मांग की गई है कि रासायनिक माफिया, जो अपने निजी और वित्तीय लाभ के लिए सैकड़ों लोगों के जीवन को खतरे में डालते हैं ऐसे लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करके एक उदाहरण पेश किया.

अहमदाबाद पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखकर मांग

अहमदाबाद शहर के चमनपुरा इलाके में गांधी की गली में रहने वाले संजय एस. शर्मा ने शहर के पुलिस आयुक्त को लिखे गए पत्र की एक कॉपी गुजरात के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, गृह राज्य मंत्री, गुजरात चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री सहित विभिन्न प्राधिकरणों को भेजी गई है. Gujrat chemical mafia

पत्र में कहा गया, “अहमदाबाद में पिछले कुछ समय से बड़ी आग लगने की घटनाओं में वृद्धि दर्ज की जा रही है. जिसमें कई नागरिकों की जान चली गई है. Gujrat chemical mafia

बीते दिनों वटवा के मातंगी, जैक्सन, रिकिन और भाविन इंडस्ट्रीज में आग लगी थी. जांच करने पर अधिकारियों को पता चला कि कंपनी में अत्यधिक ज्वलनशील और विस्फोटक एथिलीन ऑक्साइड की बड़ी मात्रा रखी गई थी.

कंपनी में रखा गया था ज्वलनशील पदार्थ

सौभाग्य से जहां पर आग लगी थी वहां एथिलीन ऑक्साइड नहीं था. हालांकि, इस घटना के बाद, रसायन उद्योग में शामिल उद्योगपतियों को समझ में आ गया है कि अगर आग एथिलीन ऑक्साइड तक पहुंच गई होती, तो वटवा जीआईडीसी का अस्तित्व ही खत्म हो जाता. इतना ही नहीं आसपास के इलाक कब्रिस्तान में बदल जाता. Gujrat chemical mafia

इसलिए ऐसी फैक्ट्रियों को अहमदाबाद से दूर ले जाने की मांग की गई है. इस घटना को लाल बत्ती के रूप में देखते हुए, अब निश्चित कार्रवाई करने का समय आ गया है.

शहर में शराब और जुए की बुराइयों पर लगाम लगाने के लिए आपराधिक तत्व और असामाजिक तत्वों पर भी सख्त कदम उठाए जा रहे हैं और पासा के तहत कार्रवाई की जा रही है.

इसीलिए रासायनिक माफियाओं के खिलाफ पासा के तहत मामला दर्ज कर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए. Gujrat chemical mafia

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात सरकार का उत्तरायण को लेकर बड़ा ऐलान, नहीं मनाया जाएगा पतंग उत्सव