Gujarat Exclusive > गुजरात > उपचुनाव से पहले बड़ा झटका, ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस के गुजरात अध्यक्ष का इस्तीफा

उपचुनाव से पहले बड़ा झटका, ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस के गुजरात अध्यक्ष का इस्तीफा

0
281
  • गुजरात विधानसभा उपचुनाव से ठीक पहले गुजरात कांग्रेस को बड़ा झटका
  • ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस के गुजरात अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा
  • पार्टी विरोधी काम करने वाले लोगों को टिकट मिलने से थे नाराज

गांधीनगर: गुजरात विधानसभा उपचुनाव से पहले सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है. कैलाशदान गढ़वी ने चुनाव से ठीक पहले प्रदेश कांग्रेस प्रोफेशनल के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है.

प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा और प्रभारी राजीव सातव को उन्होंने अपना इस्तीफा भेज दिया है. इसके साथ ही कैलाशदान गढ़वी ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है.

उपचुनाव से पहले गुजरात कांग्रेस को लगा बड़ा झटका

पार्टी विरोधी काम करने वाले लोगों को उपचुनाव में टिकट दिए जाने से वह नाराज थे. अबडासा सीट से शांतिलाल संघाणी को टिकट दिए जाने पर उन्होंने विरोध किया था.

वह ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस के गुजरात युनिट के अध्यक्ष थे. उन्होंने इस्तीफा देने के बाद अपनी ही पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी में पार्टी विरोधी काम करने वाले लोगों को टिकट दिया जा रहा है.

जबकि ईमानदारी से काम करने वालों को नजर अंदाज किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: Breaking: विधायक राघवजी पटेल सरकारी अस्पताल में तोड़फोड़ के मामले में दोषी

कांग्रेस ने आठ सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव के लिए पांच सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दिया है. धारी से सुरेश कोटडिया को टिकट दिया गया है.

अबडासा से शांतिलाल संघाणी को टिकट दिया गया है. जयंती पटेल को मोरबी से टिकट दिया गया है. मोहन सोलंकी को गढडा से चुनावी मैदान में उतारा गया है.

वहीं करजण विधानसभा सीट से किरीट सिंह जाडेजा को टिकट दिया गया है.

विधानसभा उपचुनाव को लेकर 3 उम्मीदवारों के नाम पर कांग्रेस की पेंच फंसी हुई है. इस बीच चुनाव से पहले गढवी के इस्तीफे से पार्टी में दरार पड़ गई है.

ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस के गुजरात अध्यक्ष कैलाशदान गढ़वी अबडासा सीट से शांतिलाल संघाणी को टिकट देने से नाराज हैं. इसलिए उन्होंने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है.

उनका कहना है कि पार्टी में पार्टी के खिलाफ काम करने वालों को टिकट मिलता है और ईमानदारी से काम करने वालों को नजरअंदाज किया जाता है.

इसलिए नाराज होकर प्रदेश अध्यक्ष और प्रभारी को अपना इस्तीफा भेज दिया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

राहुल गांधी आ सकते हैं गुजरात, कृषि बिल के खिलाफ पंजाब की तर्ज पर करेंगें ट्रैक्टर रैली