Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात: कच्छ में किसानों ने किया चक्काजाम, खेत में बिजली की लाइन बिछाने का विरोध

गुजरात: कच्छ में किसानों ने किया चक्काजाम, खेत में बिजली की लाइन बिछाने का विरोध

0
237

भुज: मोदी सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है. दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर किसान 100 दिनों से ज्यादा वक्त से प्रदर्शन कर रहे हैं.

किसानों की एक ही मांग है कि कानून को रद्द किया जाए. Gujrat farmer Chakkajam

इस बीच गुजरात से जानकारी सामने आ रही है कि कच्छ में प्रदर्शन करने वाले किसानों पर पुलिस ने लाठाचार्ज किया है.

गुजरात के किसानों ने किया विरोध प्रदर्शन

मिल रही जानकारी के अनुसार, एक निजी बिजली कंपनी किसानों के खेतों से बिजली लाइनों लेकर जा रही है. जिसका किसान विरोध कर रहे हैं. Gujrat farmer Chakkajam

विरोध करने वाले किसानों ने आज स्थानिक हाईवे पर ट्रैक्टर की मदद से चक्काजाम कर दिया. जहां एक तरफ किसान खेत में बिजली की लाइन डालने का विरोध कर रहे हैं.

वहीं दूसरी बिजली कंपनी बिजली लाइनों को बिछाने के लिए आज सुबह से ही भुज के जडोदर और कोटड इलाके में सर्वे कर रही है.

खेत में बिजली की लाइनें बिछाने का विरोध Gujrat farmer Chakkajam

किसानों का आरोप है कि उनके खेतों से होकर गुजरने वाली उच्च विद्युत लाइनें फसलों को नुकसान पहुंचाती हैं. Gujrat farmer Chakkajam

इस मामले को लेकर कई बार शिकायत की गई है बावजूद इसके कोई कदम नहीं उठाया गया. खेत के ऊपर से बिजली लाइन डालने को लेकर होने वाले सर्वे से नाराज स्थानिक किसानों ने चक्का जामकर जमकर सरकार और बिजली कंपनी के खिलाफ नारेबाजी की.

मामले की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने किसानों को हटाने के लिए लाठीचार्ज कर दिया. Gujrat farmer Chakkajam

गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान का आंदोलन 100 दिन के पार पहुंच गया है. जहां एक तरफ आंदोलनरत किसान तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं.

वहीं सरकार दावा कर रही है कि नए कानूनों से किसानों को फायदा पहुंचने वाला है.

केंद्र सरकार साफ कर चुकी है कि कृषि कानूनों को रद्द नहीं किया जाएगा बल्कि संशोधन जरूर करने की तैयारी दिखा रही है. Gujrat farmer Chakkajam

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद में खुद पुलिस ही नहीं सुरक्षित, पिछले 2 सालों में 142 हमले की घटना