Gujarat Exclusive > राजनीति > टिकट नहीं मिलने पर बोले गुप्तेश्वर पांडेय, राजनीति में मजबूरियां होती हैं

टिकट नहीं मिलने पर बोले गुप्तेश्वर पांडेय, राजनीति में मजबूरियां होती हैं

0
459
  • बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को नहीं मिला टिकट
  • टिकट नहीं मिलने पर शिवसेना अपना पीठ थपथपा रही
  • गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा राजनीति में मजबूरियां होती हैं
  • लेकिन मेरे वीआरएस को चुनाव से जोड़कर देखना गलत

बिहार विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है चुनाव दिलचस्प होता जा रहा है. चुनाव लड़ने के लिए वीआरएस लेने वाले राज्य के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को टिकट नहीं मिला है.

इस मामले को लेकर जहां शिवसेना अपनी पीठ थपथपा रही है. वहीं इस मामले को लेकर अब गुप्तेश्वर पांडेय का बयान सामने आया है.

पांडेय ने कहा मेरा वीआरएस और पार्टी की सदस्यता को चुनाव से जोड़कर देखना ठीक नहीं.

बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को नहीं मिला टिकट

चुनाव की तारीखों का ऐलान होने से पहले बिहार डीजीपी ने अचानक वीआरएस ले लिया था. जिसके बाद माना जा रहा था कि वह जेडीयू की ओर से चुनावी मैदान में उतरेंगे.

लेकिन टिकट नहीं मिलने के बाद आज वह न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए कहा कि “मेरे VRS लेने और पार्टी की सदस्यता लेने को सीधे चुनाव से जोड़कर देखना ठीक नहीं है.

चुनाव लड़ने की संभावना थी. किसी कारणवश ये समीकरण नहीं बैठा. राजनीति में बहुत सारी मजबूरियां होती हैं लेकिन मैं एनडीए के साथ हूं और एनडीए के साथ रहूंगा.”

यह भी पढ़ें: बिहार चुनाव: भाजपा-जदयू में सीटों का बंटवारा, सुशील बोले- नीतीश ही होंगे सीएम

 

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर बुधवार को जेडीयू ने अपने 115 उम्मीदवारों की सूची जारी की थी. जिसमें गुप्तेश्वर पांडेय का नाम नहीं था.

दरअसल जानकारी मिल रही थी कि पांडेय बस्कर सीट से अपने राजनीतिक पारी का आगाज कर सकते हैं. लेकिन जेडीयू की गठबंधन वाली भाजपा के खाते में बक्सर सीट चली गई.

बीजेपी ने बक्सर से परशुराम चतुर्वेदी को चुनावी मैदान में उतारा है.

गुप्तेश्वर पांडेय को टिकट नहीं मिलने पर शिवसेना अपनी पीठ थपथपा रही है. इस मामले को लेकर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि हमारे सवालों के डर की वजह से भाजपा ने उन्हे टिकट नहीं दिया है.

उन्होंने कहा कि गुप्तेश्वर पांडे को टिकट देना या नहीं देना पार्टी का विषय है. लेकिन हमने पूछा था कि क्या भाजपा के नेता उनके लिए प्रचार करेंगे. शायद इस सवाल के डर से उन्हें टिकट नहीं दिया गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

नरोत्तम मिश्रा का कांग्रेस पर हमला, देश को जातियों में बांटने का लगाया आरोप