Gujarat Exclusive > देश-विदेश > टीचर्स डे पर पीएम मोदी ने शिक्षकों के योगदान को किया याद, कहा- हमारे टीचर ही हमारे हीरो

टीचर्स डे पर पीएम मोदी ने शिक्षकों के योगदान को किया याद, कहा- हमारे टीचर ही हमारे हीरो

0
733
  • शिक्षक दिवस पर पीएम मोदी ने शिक्षकों के योगदान को किया याद
    छात्रों को गढ़ने में हमारे मेहनती शिक्षकों के योगदान के प्रति हम सदैव आभारी रहेंगे
    मन की बात में स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों की कहानियों को साझा करने का किया था अपील

भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है. हर साल देश में 5 सितंबर को टीचर्स डे मनाया जाता है.

पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक महान व्यक्ति के साथ ही साथ उम्दा शिक्षक थे.

शिक्षक दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों के योगदान की सराहना करते हुए कहा कि छात्रों को गढ़ने में हमारे मेहनती शिक्षकों के योगदान के प्रति हम सदैव आभारी रहेंगे.

हमारे टीचर ही हमारे हीरो- पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारे टीचर ही हमारे हीरो हैं. इस मौके पर उन्होंने ट्वीट कर लिखा-“राष्ट्र निर्माण और छात्रों को गढ़ने में मेहनती शिक्षकों के योगदान के प्रति हम सदैव आभारी रहेंगे.

शिक्षक दिवस के मौके पर हम अपने शिक्षकों को उनके उल्लेखनीय प्रयासों के लिए आभार व्यक्त करते हैं.

इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को याद करते हुए उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित की.”

 

मन की बात प्रोग्राम में शिक्षकों से किया था अपील

शिक्षक दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने एक अन्य ट्वीट कर मन की बात प्रोग्राम का एक वीडियो भी साझा किया.

उन्होंने लिखा “हमारे देश के गौरवशाली इतिहास से हमारा जुड़ाव गहरा करने के लिए हमारे जानकार शिक्षकों से बेहतर कौन है. हाल ही में #MannKiBaat के दौरान, मैंने छात्रों को हमारे स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों की कहानियों को सामने लाने का शिक्षकों से आग्रह किया था.”

यह भी पढ़ें: रूस दौरे पर गए राजनाथ सिंह मास्को में चीनी रक्षा मंत्री से कर सकते हैं मुलाकात


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही साथ राहुल गांधी ने शिक्षक दिवस के मौके पर ट्वीट कर शिक्षकों को शुभकामनाएं दीं.

योगी आदित्यनाथ ने लिखा- भारतीय संस्कृति में गुरु-शिष्य का संबंध अद्भुत है, अनुपम है. गुरु ही, गोविंद तक पहुंचने का माध्यम हैं. शिक्षक दिवस के पुनीत अवसर पर सभी आदरणीय गुरुजनों के श्रीचरणों में सादर नमन. गु

रुदेव अपने आशीष से हम सभी को अभिसिंचित रखें, हम सभी का जीवन पथ मंगलमय करें. यही कामना है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

चीन पर फिर से बरसे अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप, कहा- रिश्ते सुधारने में मदद को तैयार