Gujarat Exclusive > देश-विदेश > हापुड़ रेप केस: पकड़ा गया दरिंदा आरोपी, पुलिस ने पैर में मारी गोली

हापुड़ रेप केस: पकड़ा गया दरिंदा आरोपी, पुलिस ने पैर में मारी गोली

0
1297
  • बरगलाने के लिए छोड़ा था सूसाइड नोट
  • पिस्तॉल छिनने पर पुलिस ने मारी गोली
  • 6 साल की मासूम से की थी दरिंदगी

उत्तर प्रदेश के हापुड़ में छह साल की बच्ची के साथ दरिंदगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार कर लिया गया है. शातिर आरोपी ने पुलिस को बरगलाने के लिए अपने आत्महत्या का झूठा सूइसाइड नोट छोड़ा था. वह जंगल में छिपा था. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है.

6 साल की बच्ची से रेप में मामले में आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया.
इस दौरान उसने उसके पैर में गोली लगी है.
आरोपी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

यह भी पढ़ें: भाजपा ने फडणवीस को बनाया बिहार चुनाव का प्रभारी, सुशांत हो सकते हैं मुद्दा

पुलिस ने कहा कि आरोपी ने पुलिसकर्मी की बंदूक छीनी और उसपर फायर करने की कोशिश की.
जवाबी कार्रवाई में उसके पैर पर गोली मारी गई है.

50 हजार का रखा गया था इनाम  

हापुड़ में नाबालिग बच्ची का अपहरण और रेप के आरोपी दलपत को एक हफ्ते बाद आज सुबह गिरफ्तार किया.
पुलिस ने आरोपी दलपत को पकड़ने के लिए इस हफ्ते की शुरुआत में स्कैच के आधार पर उसकी एक तस्वीर जारी की थी.
पुलिस ने उसकी सूचना देने वाले को 50,000 रुपये का इनाम देने का भी ऐलान किया था.

गुमराह करने के लिए सूसाइड नोट

पुलिस ने कहा कि हापुड़ केस के आरोपी दलपत ने पुलिस को गुमराह करने के लिए नदी के किनारे अपने कुछ कपड़े और एक सुसाइड नोट छोड़ा था.

दलपत ने नोट में लिखा था, ‘मुझे बड़े दुःख के साथ कहना पड़ रहा है कि मैं तुम्हारी गोली से नहीं मरना चाहता हूं. मुझे रस्सी भी नहीं मिली क्योंकि पुलिस मेरे पीछे थी और मैं फतेहपुर भी गया था. मुझे पता था कि 50 हजार के लालच में मुझे गोली लगती. मेरा एनकाउंटर होता. मै उससे नहीं मरना चाहता. मैं अपनी मौत खुद तय करूंगा और मेरे बच्चों को दुखी मत करना.’ सुसाइड नोट पर आगे लिखा है कि आरोपी ने सबसे आसान मौत सोची है गंगा में.

सूइसाइड की बात सामने आने पर पुलिस ने उसकी तलाश गंगा में करवाई.
पुलिस अधिकारियों ने कहा कि जब तक दलपत की लाश नहीं मिल जाती तब तक उसके आत्महत्या की पुष्टि नहीं हो सकती.

मासूम लड़ रही जिंदगी की जंग

यूपी के गढ़ मुक्तेश्वर से मासूम को घर के बाहर से बाइक सवार बदमाशों ने अगवा किया था.
घटना के दूसरे दिन सुबह तीन किलोमीटर दूर बच्ची बेहोशी की हालत में मिली थी.
पुलिस की 8 टीमें आरोपियों की तलाश में जुटी थीं.
मासूम अभी एम्स में मौत और जिंदगी की लड़ाई लड़ रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें