Gujarat Exclusive > राजनीति > राजनाथ सिंह से मिले हरियाणा के उपमुख्यमंत्री, किसानों ने कहा सत्ता के मोह से बंधे

राजनाथ सिंह से मिले हरियाणा के उपमुख्यमंत्री, किसानों ने कहा सत्ता के मोह से बंधे

0
278

कृषि कानून को लेकर किसान केंद्र की मोदी सरकार से आर-पार की लड़ाई का मूड बनाकर बीते काफी दिनों से दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर डंटे हुए हैं. Haryana Deputy Chief Minister

आंदोलनरत किसानों को भारी समर्थन मिल रहा है. इस बीच जानकारी सामने आ रही है कि जननायक जनता पार्टी प्रमुख और हरियाणा के उपमुख्‍यमंत्री दुष्‍यंत चौटाला ने केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की है. उनके इस मुलाकात से कयास लगाए जा रहे हैं कि खट्टर की कुर्सी मंडराने वाला खतरा टल गया है.

दुष्‍यंत चौटाला ने की राजनाथ सिंह से मुलाकात Haryana Deputy Chief Minister

लेकिन आंदोलनरत किसानों ने दुष्‍यंत चौटाला ने पर बड़ा आरोप लगाया है किसानों का कहना है कि चौटाला सत्ता की लालच में फंसे हुए हैं. Haryana Deputy Chief Minister

अगर ऐसा नहीं होता तो वह इस्तीफा देकर किसानों के आंदोलन के साथ जुड़ जाते. हालांकि राजनाथ सिंह और दुष्यंत चौटाला के बीच किस मुद्दे पर बातचीत हुई इसका खुलासा नहीं हो पाया है.

लेकिन चौटाला को किसानों के नाराजगी का सामना जरूर करना पड़ रहा है.

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री से नाराज किसान

गौरतलब है कि किसानों के आंदोलन के बीच हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला कई बार कह चुके हैं कि अगर किसानों की बात नहीं मनी गई तो वे अपनी कुर्सी को छोड़ सकते हैं.

इतना ही नहीं जननायक जनता पार्टी के कई विधायक खुलकर किसानों के समर्थन में आ चुके हैं.

जिसके बाद उम्मीद जताई जा रही थी कि मनोहर लाल खट्टर की कुर्सी पर खतरे का बादल मंडराने लगा है.

नए कृषि कानून का विरोध करने वाले किसानों के आंदोलन का आज 17 वां दिन है. किसान कानून को रद्द करने की मांग पर डंटे हुए हैं. Haryana Deputy Chief Minister

कृषि कानून का विरोध करने वाले किसानों से 6 दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई ठोस नतीजा नहीं निकल पाया है. सरकार कानून में कुछ संशोधन करने को तैयार है. लेकिन किसानों को संशोधन मंजूर नहीं. Haryana Deputy Chief Minister

किसान एक बार सरकार का प्रस्ताव ठुकरा चुके हैं ऐसे में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान संगठन के नेताओं से एक बार फिर से प्रस्ताव पर विचार करने का आग्रह किया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

किसान आंदोलन, PM मोदी ने कहा नए कानून से मिलेगा बेहतर विकल्प