Gujarat Exclusive > देश-विदेश > हाथरस गैंगरेप के बहाने दंगा भड़काने की कोशिश, PFI एजेंट समेत 4 गिरफ्तार

हाथरस गैंगरेप के बहाने दंगा भड़काने की कोशिश, PFI एजेंट समेत 4 गिरफ्तार

0
454
  • गैंगरेप के बहाने दंगा की साजिश का खुलासा मथुरा से चार युवक गिरफ्तार
  • पीएफआई से बताए जा रहे हैं इन चारों के संबंध
  • पुलिस चारों से कर रही है फिलहाल पूछताछ
  • उत्तर प्रदेश सुरक्षा एजेंसियों ने किया था दावा

उत्तर प्रदेश सुरक्षा एजेंसियों ने कल बड़ा दावा करते हुए कहा था कि हाथरस गैंगरेप की आड़ में प्रदेश में दंगा भड़काने की साजिश रची जा रही थी.

सुरक्षा एजेंसियों ने दावा किया था कि इस मंसूबे को अंजाम तक पहुंचाने के लिए रातों रात एक वेबसाइट भी बना ली गई थी.

मामला सामने आने के बाद पुलिस ने मथुरा से चार लोगों को गिरफ्तार किया है इनके संबंध पीएफआई से बताए जा रहे हैं.

मथुरा से 4 युवकों को किया गया गिरफ्तार

इस सिलसिले में जानकारी देते हुए उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा कि दिल्ली से हाथरस जा रहे चार युवकों को सोमवार को मथुरा से पकड़ा गया है.

इन तमाम के संबंध पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से हैं. पुलिस फिलहाल इन चारों युवकों से पूछताछ कर रही है.

उत्तर प्रदेश सुरक्षा एजेंसियों ने किया था दावा

यूपी सुरक्षा एजेंसियों ने हाथरस गैंगरेप के पीछे जातीय हिंसा की साजिश रचने का कल खुलासा किया था.

UP सुरक्षा एजेंसियों के दावा के अनुसार मदद के नाम पर हिंसा फैलाने के लिए इस वेबसाइट के जरिय फंडिंग का भी इंतजाम किया जा रहा था. जिसमें PFI, SDPI जैसे संगठन का नाम सामने आया है.

जो एनआरसी के खिलाफ हिंसा में शामिल थे. मामले की जानकारी सामने आने के बाद प्रदेश भर में पुलिस को अलर्ट पर रखा गया है.

सीएम योगी ने ट्वीट कर दी जानकारी

मामला सामने आने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कहा” जिन्हें विकास अच्छा नहीं लग रहा है. वह जातीय और सांप्रदायिक दंगा भड़काना चाहते हैं.

इन दंगों की आड़ में उन्हें राजनीतिक रोटियां सेंकने का अवसर मिलेगा. इसलिए वे नित नए षड्यंत्र करते हैं. इन षड्यंत्रों के प्रति पूरी तरह आगाह होते हुए हमें विकास की प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाना है.”

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हाथरस के बहाने UP में दंगा कराने की साजिश, सुरक्षा एजेंसियों का दावा बनाई गई थी वेबसाइट