Gujarat Exclusive > राजनीति > इतिहास के पन्ने: 1991 में राजीव गांधी की हत्या के बाद नरसिम्हा राव बने थे कांग्रेस अध्यक्ष

इतिहास के पन्ने: 1991 में राजीव गांधी की हत्या के बाद नरसिम्हा राव बने थे कांग्रेस अध्यक्ष

0
500

कांग्रेस में पार्टी अध्यक्ष को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है. ऐसे में यह जानने की जरूरत है कि 28 दिसंबर 1885 में कांग्रेस की स्थापना के बाद से पार्टी के अध्यक्ष के रूप में कितने चेहरे सामने आए. 1885 में बोमेश चंद्र बनर्जी कांग्रेस के पहले अध्यक्ष चुने गए थे.

यहां ध्यान देने वाली बात ये है कि मोतीलाल नेहरू से राहुल गांधी तक नेहरू परिवार के सिर्फ 6 लोग ही कांग्रेस के अध्यक्ष बने हैं.

वहीं 1991 में तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के बाद ऐसे हालात बने कि पीवी नरसिम्हा राव को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया.

चुनाव में हार के बाद नरसिम्हा हटाए गए

पीवी नरसिम्हा राव 1992 से 1996 तक कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर रहे.
मगर चुनाव में करारी हार के बाद उन्हें अध्यक्ष पद से हटाकर सीताराम केसरी को कांग्रेस की कमान सौंप दी गई.
सीताराम केसरी 1996 से 1998 तक कांग्रेस के अध्यक्ष रहे.

सोनिया गांधी का हुआ उदय

इसी दौर में सोनिया गांधी का उदय हुआ. उ
नका विदेशी होने का मुद्दा हावी हो रहा था और कांग्रेस से कई दिग्गज नेताओं ने पार्टी से किनारा कर लिया था.
विवादों के चलते सीताराम केसरी को अध्यक्ष पद से हटा दिया गया.
इसके बाद कांग्रेस की कमान सोनिया गांधी ने संभाल ली.

यह भी पढ़ें: कपिल सिब्बल ने अपने ट्विटर प्रोफाइल से कांग्रेस हटाया, ट्वीट भी डिलिट किया

1998 से लेकर 2017 तक सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष लगातार चुनी गईं.
लेकिन 2017 में अपनी उम्र और पार्टी को युवा नेतृत्व की जरूरत बताकर सोनिया गांधी ने पद छोड़ दिया.
सोनिया गांधी के पद छोड़ने के बाद राहुल गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया.

राहुल को मिली जिम्मेदारी

राहुल गांधी 2017 से 2019 तक कांग्रेस के अध्यक्ष रहे, मगर 2019 में लोकसभा चुनावों में करारी हार के बाद राहुल ने हार की जिम्मेदारी ली और कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ दिया. राहुल गांधी के पद छोड़ने के बाद साल 2019 में एक बार फिर सोनिया गांधी एक साल के लिए पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष बनाई गईं.

कांग्रेस के अध्यक्षों का इतिहास

1885 में बोमेश चंद्र बनर्जी कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए.
इसके बाद 1886 में दादाभाई नौरोजी, 1887 में बदरूद्दीन तैय्यबजी, 1888 में जार्ज यूल, 1889 में सर विलियम वेडरबर्न, 1890 में सर फ़िरोज़शाह मेहता, 1891 में पी. आनन्द चार्लू, 1892 में बोमेश चन्द्र बनर्जी, 1893 में दादाभाई नौरोजी, 1894 में अलफ़्रेड वेब, 1895 में सुरेन्द्र नाथ बनर्जी, 1896 में रहीमतुल्ला सयानी, 1897 में सी. शंकरन नायर, 1898 में आनन्द मोहन बोस, 1899 में रमेश चन्द्र दत्त, 1900 में एनजी चन्द्रावरकर, 1901 में दिनशा इदुलजी वाचा, 1902 में एसएन बनर्जी, 1903 में लाल मोहन घोष, 1904 में सर हैनरी कॊटन, 1905 में गोपाल कृष्ण गोखले, 1906 में दादाभाई नौरोजी, 1907 में डॉ. रास बिहारी घोष, अध्यक्ष बनाए गए.

1909 में पंडित मदन मोहन मालवीय, 1910 में सर विलियम वेडर्बन, 1911 में पंडित बिशन नारायण धर, 1912 में आर.एन. माधोलकर, 1913 मेंसैयद मोहम्मद बहादुर, 1914 में भूपेन्द्रनाथ बसु, 1915 में सर सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा, 1916 में अम्बिका चरण मज़ूमदार, 1917 में एनी बेसेंट, 1918 में हसन इमाम और मदनमोहन मालवीय, 1919 में पंडित मोतीलाल नेहरू, 1920 में सी. विजया राघवाचारियर, 1921 में सीआर दास, 1923 में लाला लाजपत राय और मुहम्मद अली, 1924 में मोहनदास करमचंद गांधी, 1925 में सरोजिनी नायडू, 1926 में एस. श्रीनिवास आयंगार, 1927 में डॉ. एमए अंसारी, 1928 में मोतीलाल नेहरू, 1929 में पंडित जवाहरलाल नेहरू, 1931 में सरदार बल्लभभाई पटेल, 1932 में आर. अमृतलाल, 1933 में नेल्ली सेन गुप्ता, 1934 में बाबू राजेन्द्र प्रसाद, 1936 में पंडित जवाहरलाल नेहरू, 1938 में सुभाष चन्द्र बोस, 1940 में मौलाना अब्दुल कलाम आज़ाद, 1946 में पंडित जवाहरलाल नेहरू और सितंबर 1946 में आचार्य जेबी कृपलानी पार्टी अध्यक्ष बने.

आजादी के बाद किसे मिली जिम्मेदारी

आज़ादी के बाद 1948 में बी. पट्टाभि सीतारमय्या कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए.
इसके बाद 1950 में पुरुषोत्तम दास टंडन, 1951 में पंडित जवाहरलाल नेहरू, 1955 में यूएन ढेबर, 1960 में इंदिरा गांधी, 1961 में एन. संजीव रेड्डी, 1962 में डी. संजिवैया, 1964 में के. कामराज, 1968 में एस. निजिलिंगप्पा, 1969 में सी. सुब्रमण्यम, 1970 में जगजीवन राम, 1971 में डी. संजिवैया, 1972 में डॉ. शंकर दयाल शर्मा, 1975 में देवकांत बरूआ, 1976 में ब्रह्मनंदा रेड्डी और 1978 में इंदिरा गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष बनीं.


इंदिरा गांधी की मौत के बाद पंडित कमलापति त्रिपाठी कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए.
फिर 1984 में राजीव गांधी को पार्टी अध्यक्ष की ज़िम्मेदारी सौंपी गई.
उनके बाद 1991 में पीवी नरसिंह राव, 1996 में सीताराम केसरी और 1998 में सोनिया गांधी को सर्वसम्मति से कांग्रेस का अध्यक्ष चुना गया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

राहुल गांधी के आरोपों से भड़के गुलाम नबी आजाद ने की इस्तीफे की पेशकश