Gujarat Exclusive > देश-विदेश > गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ‘दिल्‍ली हिंसा को राजनीतिक रंग देने की कोशिश की गई’, कांग्रेस का लोकसभा से वॉकआउट

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ‘दिल्‍ली हिंसा को राजनीतिक रंग देने की कोशिश की गई’, कांग्रेस का लोकसभा से वॉकआउट

0
260

लोकसभा में बुधवार को दिल्ली हिंसा पर जमकर बहस हुई. इस दौरान एक तरफ विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा तो दूसरी तरफ गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्ष के द्वारा उठाए गए मुद्दों पर जवाब दिया. जवाब के बीच में ही कांग्रेस के सांसद सदन से वॉकआउट कर गए. इस दौरान लोकसभा में दिल्ली हिंसा पर जवाब देते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पर बगैर नाम लिए जमकर हमला बोला.

चर्चा के दौरान अमित शाह ने कहा, ‘दिल्ली दंगा को राजनीतिक दंग देने का प्रयास हुआ है. जिन लोगों की जान गई है उनके लिए दिल से दुख व्यक्त करता हूं. जो मारे गए उनके परिवारों के प्रति संवेदना भी व्यक्त करना चाहता हूं. कुछ चीजें ऐसी हैं जिन्हें आज की चर्चा में नहीं बोलना चाहता, लेकिन जिस तरह इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना को रखने का प्रयास हुआ इसलिए इस पर स्पष्ट करना चाहूंगा.’

कांग्रेस पर लगाए हिंसा भड़काने के आरोप

अमित शाह ने कहा कि 14 दिसंबर को दिल्ली में आयोजित रैली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने सीएए के विरोध में लोगों से सड़कों पर उतरने का आह्वान किया था. इसके बाद ही शाहीन बाग सीएए विरोध का दिल्ली में केंद्र बना. उन्होनें कहा कि सत्तारूढ़ दल पर हेट स्पीच का आरोप लगाने वालों को पहले इस ओर भी ध्यान देना चाहिए. इसके साथ ही अमित शाह ने वारिस पठान समेत उमर खालिद के भड़काऊ भाषणों को लेकर भी विपक्ष पर जोरदार हमला बोला.

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस के नेता लोगों को घर के बाहर निकलने के लिए कहते हैं. ये हेट स्पीच नहीं है तो क्या है. इस बयान के बाद 16 दिसंबर को शाहीन बाग का धरना शुरू हो गया. एक स्पीच होती है 17 फरवरी को. 24 फरवरी को ट्रंप जब भारत आएंगे तो हम बताएंगे कि भारत की सरकार क्या कर रही है. इसके बाद हिंसा की शुरुआत होती है. वारिस पठान 19 फरवरी को कहते हैं कि जो चीज मांगने से नहीं मिलती उसे छीननी पड़ती है. इसके बाद 24 फरवरी को दंगे होते हैं.

रामलीला मैदान से कांग्रेस ने भड़काया

लोकसभा में बुधवार को दिल्ली हिंसा को लेकर विपक्ष ने मोदी सरकार पर जमकर तीर छोड़े. अधीर रंजन चौधरी ने तो गृहमंत्री अमित शाह के लिए यहां तक कह दिया कि वह अहमदाबाद में डोनाल्ड ट्रंप के साथ थे और इधर दिल्ली सुलग रही थी. इसका जवाब देते हुए अमित शाह ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की रामलीला मैदान पर रैली को लेकर कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला. उन्होंने बगैर नाम लिए कहा कि कांग्रेस के नेताओें ने सीएए पर आर-पार की लड़ाई का आह्वान किया. रैली में कहा गया कि सड़कों पर निकलो. अगर अभी नहीं निकलोगे तो कब निकलोगे. उन्होंने कहा कि इसके बाद आरोप बीजेपी पर लगाया जा रहा है.

हिंसा करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हिंसा के लिए जो भी जिम्मेदार होगा उसको छोड़ा नहीं जाएगा. 100 से ज्यादा हथियार बरामद किया गया है. हिंसा को फंड देने वाले 3 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. किसी भी निर्दोष को सजा नहीं दी जाएगी. पूरे सबूत के बाद गिरफ्तारी की जा रही है. गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि उत्तर-पूर्व इलाका उत्तर प्रदेश के बॉर्डर से जुड़ा हुआ है. गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा में कहा दिल्ली में हिंसा फैलाने के लिए 300 से ज्यादा लोग यूपी से आए थे. यह गहरी साजिश थी.

ओवैसी ने साधा केंद्र पर निशाना

इससे पहले एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली हिंसा ‘एक सुनियोजित कार्यक्रम’ थी जिसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए. लोकसभा में दिल्ली हिंसा पर चर्चा के दौरान ओवैसी ने कहा कि सत्ता पक्ष के लोगों के चेहरों पर दिल्ली हिंसा को लेकर कोई पछतावा दिखाई नहीं देता. उन्होंने कहा कि हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल भेजा जाना चाहिए और उच्चतम न्यायालय या किसी उच्च न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीश की अध्यक्षता में जांच आयोग का गठन कर निष्पक्ष जांच होनी चाहिए.

भाजपा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को बनाया मध्य प्रदेश से राज्यसभा प्रत्याशी, शिवराज सिंह ने दी बधाई