Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना महामारी के बीच उठा बड़ा सवाल, दुनिया में नर्सों की कितनी कमी ?

कोरोना महामारी के बीच उठा बड़ा सवाल, दुनिया में नर्सों की कितनी कमी ?

0
546

स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में नर्सें एक अहम भूमिका निभाती हैं. ऐसे में जब कोरोना वायरस जैसी महामारी से लड़ाई हो तो इनकी अहमियत और बढ़ जाती है. स्वास्थ्य के क्षेत्र में नर्सों की संख्या कुल संख्या का 59 प्रतिशत से अधिक या 27.9 मिलियन है, जो यह दर्शाता है कि उनकी भूमिका विशेष रूप से वर्तमान स्वास्थ्य संकट के दौरान सर्वोपरि है.

द इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, मंगलवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स (ICN) और नर्सिंग नाउ अभियान के साथ, “स्टेट ऑफ़ द वर्ल्ड्स नर्सिंग” शीर्षक से एक रिपोर्ट जारी की. इसमें नर्सों के काम करने, राष्ट्रीय और वैश्विक लक्ष्यों को पूरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जैसे अहम विषयों को दर्शाया गया है.

चिंता का विषय

दुनिया भर में प्रति 10,000 लोगों में करीब 36.9 नर्सें हैं लेकिन अमेरिका में अफ्रीकी क्षेत्र की तुलना में लगभग 10 गुना ज्यादा नर्स हैं. जहां अमेरिका में प्रति 10,000 जनसंख्या पर 83.4 नर्स हैं, वहीं अफ्रीका में प्रति 10,000 जनसंख्या पर सिर्फ 8.7 नर्स हैं. रिपोर्ट के मुताबिक 2030 तक दुनियाभर में 5.7 मिलियन नर्सों की कमी होगी.

पिछले कुछ वर्षों से भारत में नर्सों ने अक्सर कम मजदूरी की मांग की है. उदाहरण के लिए, नवंबर 2018 में दिल्ली के बत्रा अस्पताल और चिकित्सा अनुसंधान केंद्र की नर्सें हड़ताल पर चली गईं, उन्होंने आरोप लगाया कि उन्हें अतिरिक्त घंटे काम करने के लिए मजबूर किया गया था, लेकिन उनके अनुसार भुगतान नहीं किया गया था.

जुलाई 2019 में दिल्ली उच्च न्यायालय ने राजधानी के निजी अस्पतालों में काम करने वाली नर्सों के लिए न्यूनतम मजदूरी 20,000 रुपये निर्धारित करने के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों को बरकरार रखा.

नर्सों का योगदान

मरीज की देखभाल में नर्सों की भूमिका काफी अहम होती है. कुल मिलाकर, नर्सें एक मरीज को दी जाने वाली देखभाल की गुणवत्ता सुनिश्चित करने, संक्रमण को रोकने और नियंत्रित करने और रोगाणुरोधी प्रतिरोध का मुकाबला करने में महत्वपूर्ण हैं. ICN के अनुसार, चीन में कोरोना के प्रकोप से निपटने में मदद करने के लिए 28,000 से अधिक नर्सें हुबेई प्रांत भेजी गईं थीं. ICN का कहना है कि नर्सों के प्रयासों से अब तक 44,000 से अधिक COVID-19 रोगियों की रिकवरी में मदद मिली है, जो चीन में रिपोर्ट किए गए कुल संक्रमित लोगों का लगभग आधा है.

भारत में नर्सिंग की स्थिति

2018 तक, भारत में 10.6 लाख नर्स और 772,575 नर्सिंग सहयोगी थे. इसमें से पेशेवर नर्सों की हिस्सेदारी 67 प्रतिशत है. स्वास्थ्य कर्मचारियों के भीतर, नर्सों में चिकित्सा स्टाफ के 47 प्रतिशत, डॉक्टरों (23.3 प्रतिशत), दंत चिकित्सकों (5.5 प्रतिशत) और फार्मासिस्ट (24.1 प्रतिशत) शामिल हैं. इसके अलावा भारत में कुल हिस्से का 88 प्रतिशत महिला नर्सें हैं. यह विश्व स्तर पर देखी गई नर्सिंग की संरचना के अनुरूप है, जहां 90 प्रतिशत महिलाएं हैं.

कोरोना का प्रकोप : राजस्थान में सिर्फ 5 लोगों से 198 में फैला संक्रमण, एक व्यक्ति ने 126…