Gujarat Exclusive > देश-विदेश > वायरल फीवर को ‘कोरोना’ समझकर लगा ली फांसी, परिवार को संक्रमण से बचाने के लिए उठाया कदम

वायरल फीवर को ‘कोरोना’ समझकर लगा ली फांसी, परिवार को संक्रमण से बचाने के लिए उठाया कदम

0
214

चीन में फैले कोरोना वायरस का आतंक दुनिया के कई देशों में अपने पैर पसार चुका है. भारत में भी कोरोना वायरस के कुछ मरीज मिले हैं. आलम यह है कि इस वायरस के संक्रमण से लोग इतना भयभीत हैं कि मामूली बुखार को भी लोग कोरोना समझने लगे हैं. ऐसा ही मामला मंगलवार को हैदराबाद में सामने आया.

शक में गंवाई जान

हैदराबाद में 50 वर्षीय एक व्यक्ति को वायरल फीवर हुआ तो वह कोरोना वायरस समझकर फांसी पर झूल गया. परिजनों ने बताया कि उसने ऐसा कदम बीवी व बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए उठाया. हैदराबाद के चित्तूर निवासी के. बाला कृष्णाहद को वायरल फीवर हुआ तो लोगों ने उन्हें कोरोना वायरस की जांच भी कराने की सलाह दी. इसके बाद कृष्णाहद ने मोबाइल पर कोरोना वायरस के लक्षण के वीडियो देखे. कोरोना वायरस का शक होने पर कृष्णाहद अपने बीवी व बच्चों को घर में बंद कर दिया. इसके बाद वह मां की कब्र के पास पहुंचा. यहां कृष्णाहद ने कब्र के पास एक पेड़ से फांसी का फदा लगाकर जान दे दी. परिजनों के शोर मचाने पर पड़ोसियों ने घर का दरवाजा खोला. खोजते हुए परिजन जब कब्र के पास गए तो कृष्णाहद फांसी पर लटकता मिला.

जांच में नहीं मिले कोरोना के लक्षण

सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिजनों से पूछताछ किया. इसके बाद चिकित्सक को बुलाकर कृष्णाहद की जांच की गई जिसमें कोरोना के लक्षण नहीं मिले. चिकित्सक ने बताया कि उनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं मिले. वे सामान्य वायरल फीवर से पीड़ित थे. चिकित्सक ने लोगों को बताया कि हैदराबाद में अभी तक कोरोना का कोई मामला सामने नहीं आया है. उन्होंने लोगों को सलाह दी ऐसा कदम न उठाएं, चिकित्सक से परामर्श लें और सही उपचार कराएं. मालूम हो कि अब तक चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 1000 के पार पहुंच चुकी है.