Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात में डॉक्टर बेटी बीमार मां को छोड़कर, कोरोना संक्रमितों की कर रही है सेवा

गुजरात में डॉक्टर बेटी बीमार मां को छोड़कर, कोरोना संक्रमितों की कर रही है सेवा

0
859

विशाल मिस्त्री, राजपीपणा: गुजरात सहित पूरे देश में कोरोना के मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे हैं. इस बीच, डॉक्टर, नर्स और अन्य स्वास्थ्य कर्मचारी अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों की जान बचाने की कोशिश कर रहे हैं. कई मामलों में स्वास्थ्य कर्मचारी कई दिनों तक अपने परिवार से मिलने भी नहीं आ सकते. वह अपने कर्तव्य डंटकर निभा रहे हैं. ऐसे में गुजरात के अंकलेश्वर शहर की एक युवा मुस्लिम महिला डॉक्टर का जज्बा लोगों के लिए मिसाल साबित हो रहा है.

अंकलेश्वर शहर की महिला डॉ. जरीयाब खालिक मलिक 8-9 महीने पहले ही एमबी -9 डिग्री लेकर घर आई थी. तभी से वह अंकलेश्व में मौजूद जयाबेन मोदी अस्पताल में अपनी जिम्मेदारी निभा रही है. जरीयाब खालिक मलिक के पिता डॉ अब्दुल खालिक मलिक अंकलेश्वर स्टेशन क्षेत्र में एक क्लिनिक चला रहे हैं. जबकि उनका भाई अमेरिका में अध्ययन कर रहा है. उसकी माँ की तबीयत पिछले काफी दिनों से खराब चल रही है. कोरोना वायरस के बढ़ते आतंक के बीच इस मुस्लिम महिला डॉ. ने अपनी बीमार मां को घर पर छोड़कर कोरोना संक्रमित मरीजों की सेवा करने का फैसला किया है. भरूच ने कोरोना के 10 सकारात्मक मामले अबतक सामने आ चुके हैं.

जरीयाब खालिक मलिक अपने डॉक्टर के पिता से कहा कि डैडी कोरोना रोगियों की सेवा करना चाहती है. तो पिता ने कहा कि यह देश की सेवा करने का समय है, मुझे आपके निर्णय पर गर्व है. जिसके बाद पिता अब्दुल खालिकभाई मलिक भी अपने क्लिनिक के साथ ही साथ बीमार पत्नी की भी देखभाल कर रहे हैं.

बांद्रा रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों की भीड़ जमा करने का मामला, पुलिस की हिरासत में आरोपी