Gujarat Exclusive > देश-विदेश > सेना प्रमुख नरवणे का बड़ा बयान, सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण लेकिन हम तैयार

सेना प्रमुख नरवणे का बड़ा बयान, सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण लेकिन हम तैयार

0
461

भारत और चीन (India China) के बीच सीमा पर हालात ठीक नहीं है. देशों देशों की फौजें आमने-सामने हैं. इस बीच सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे का एक बड़ा बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि सीमा पर हालात तनावपूर्ण हैं लेकिन सेना हर चुनौती के लिए तैयार है.
भारत चीन (India China) विवाद पर उन्होंने कहा कि पिछले 3 महीने से स्थिति नाज़ुक बनी हुई है लेकिन जवानों का मनोबल ऊंचा है.

गौरतलब है कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनावपूर्ण हालात हैं और भारत-चीन (India China) की सेनाएं आमने-सामने हैं.
तनाव को देखते हुए भारतीय सेना के प्रमुख जनरल एमएम नरवणे दो दिवसीय लद्दाख दौरे पर हैं, जहां वह सभी तैयारियों की समीक्षा कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: सुशांत केस में रिया के भाई शौविक को पूछताछ के लिए साथ ले गई एनसीबी की टीम

आज मीडिया से बात करते हुए जनरल नरवणे ने कहा कि एलएसी पर स्थिति नाजुक और गंभीर है.

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा,

अभी जो LAC पर स्थिति है वो नाजुक और गंभीर है, लेकिन हम लगातार इसके बारे में सोच विचार कर रहे हैं. हमारी सुरक्षा के लिए हमने कुछ एहतियाती कदम उठाए हैं. मुझे उम्मीद है कि हमने जो तैनाती की है उससे हम अपनी सुरक्षा कायम रखेंगे.

आगे सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा कि कल लेह पहुंचने के बाद मैंने अलग-अलग जगहों पर ऑफिसर्स से बात की और स्थिति का जायजा लिया. जवानों का मनोबल बहुत ऊंचा है वो हर चुनौती का सामना करने को तैयार हैं. मैं यकीनन कह सकता हूं कि हमारे जवान न केवल भारतीय सेना बल्कि देश का भी नाम रोशन करेंगे.

गुरुवार को किया था फॉरवर्ड लोकेशन का दौरा

गुरूवार को सेना प्रमुख ने कुछ फॉरवर्ड लोकेशनों का भी दौरा किया था, जिनके नाम सेना ने नहीं बताए है. अपने इस दो दिवसीय दौरे के दौरान सेना प्रमुख सैनिकों की ऑपरेशनल तैयारियों का भी मुआयना करेंगे. सेना प्रमुख के इस दौरे से पहले बुधवार को वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया ने पूर्व कमान का दौरा किया था. जनरल नरवणे गुरुवार तड़के लेह पहुंचे और वहां मौजूद वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बातचीत की. उन्होंने चीन के रणनीतिक प्रयासों को विफल करने के लिए रणनीति पर चर्चा की.

मालूम हो कि पैंगोंग के दक्षिणी इलाके में हुए 29-30 अगस्त को सेना की कार्रवाई के बाद उनका यह दौरा अहम माना जा रहा है. इधर पैंगोंग के उत्तर में भी तनाव बढ़ा है. भारत और चीन (India China) की सेनाएं बात कर तनाव घटाने की कोशिश में जुटी हैं, लेकिन बॉर्डर टेंशन बढ़ी है.

चीन की ओर से घुसपैठ की कोशिश

चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक भारतीय इलाकों में घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं. वहीं भारत और चीन (India China) देशों के सैन्य प्रतिनिधि तनाव कम करने के लिए बातचीत कर रहे हैं. हाल ही में चीन ने पैंगोंग त्सो में यथास्थिति को बदलते हुए ऊकसाउ घुसपैठ की है, जिसके बाद भारतीय सैनिकों ने भी कार्रवाई की.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें