Gujarat Exclusive > देश-विदेश > वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत दो पायदान फिसला, 142 वे नंबर पर पहुंचा

वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत दो पायदान फिसला, 142 वे नंबर पर पहुंचा

0
1162

विश्लेषण के मुताबिक भारत वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में 180 देशों के समूह में दो स्थान नीचे उतरकर 142 वें नंबर पर आया है. ‘द वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2020’ के अनुसार भारत में 2019 में किसी भी पत्रकार की हत्या नहीं हुई और इस तरह देश के मीडिया के लिए सुरक्षा स्थिति में सुधार नजर आया. हालांकि माना जा रहा है कि भारत की स्थिति कश्मीर में रिपोर्टिंग से प्रभावित हुई है.

रैंकिंग में अपना देश 180 देशों में से 142वें पायदान पर है. वहीं नॉर्वे लगातार चौथे साल लिस्ट में सबसे ऊपर है और नॉर्थ कोरिया अंतिम स्थान पर है. कश्मीर की स्थिति ने इस साल की रिपोर्ट को बहुत हद तक प्रभावित किया है. 5 अगस्त 2019 को जमू कश्मीर से आर्टिकिल 370 हटाए जाने के बाद वहां की स्थिति तनावपूर्ण बानी हुई है.

जम्मू और कश्मीर में अपनी कार्रवाई से पहले, सरकार ने राज्य में अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती की, इंटरनेट और फोन बंद कर दिए और मनमाने ढंग से हजारों कश्मीरियों को हिरासत में ले लिया, जिनमें राजनीतिक नेता, कार्यकर्ता, पत्रकार, वकील और बच्चों सहित संभावित प्रदर्शनकारी शामिल थे.

रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (RSF) एक अंतर्राष्ट्रीय गैर-सरकारी, गैर-लाभकारी संगठन है, जो प्रेस की स्वतंत्रता की वकालत करता है. RSF सार्वजनिक हित में UN, UNESCO और EU जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठन और मानव अधिकारों पर सलाहकार की भूमिका निभाता है.

कोरोना का असर: अमेरिका में ग्रीन कार्ड के लिए ट्रंप ने लगाई 60 दिनों की रोक