Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > अप्रैल-जून तिमाही में देश की GDP 23.9% गिरी, राहुल गांधी ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

अप्रैल-जून तिमाही में देश की GDP 23.9% गिरी, राहुल गांधी ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

0
837

अप्रैल जून तिमाही में जीडीपी (GDP) में सबसे ज्यादा गिरावट भारत में दर्ज की गई है. भारत की जीडीपी (GDP) में 23.9 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज की गई है. इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर इंग्लैंड है जहां जीडीपी में अप्रैल-जून तिमाही में 20.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. वहीं इस गिरावट को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून तिमाही) में भारत की जीडीपी (GDP) में 23.9 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज की गई है.

इसकी तुलना में पिछली तिमाही में जीडीपी (GDP) में 3.1 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई थी. 2019-20 की अप्रैल-जून तिमाही में 5.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई थी.

सोमवार को सरकार की ओर से जीडीपी (GDP) के आंकड़े जारी किए गए. 21 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय सहायता के बावजूद कोरोना वायरस महामारी की वजह से कारोबार और आम इंसान पर भारी असर पड़ा.

यह भी पढ़ें: गुजरात में दर्ज हुई सीजन की 113 % बारिश, अगले दो दिनों तक भारी बारिश का पूर्वानुमान

मुख्य आर्थिक सलाहाकार के सुब्रमण्यन ने पहली तिमाही के जीडीपी (GDP) आंकड़ों पर ऑडियो जारी करके बयान दिया.

उन्होंने कहा,

“अप्रैल-जून तिमाही के दौरान देश में लॉकडाउन था. सभी आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह से बंद रहीं. पहली तिमाही में GDP की गिरावट अनुमान के अनुरूप है.”

1996 के बाद से सबसे बड़ी गिरावट

भारत साल 1996 से जीडीपी के आंकड़े जारी कर रहा है. यह तब से लेकर अब तक की सबसे बड़ी गिरावट है.
अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से कई कोशिशें की गईं.
रिजर्व बैंक ने आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए मार्च से रेपो रेट में 1.15 प्रतिशत की कटौती की है. हालांकि इन तमाम कोशिशों के बावजूद सकारात्म नतीजे देखने को नहीं मिले हैं.

देश में अभी भी कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है. ऐसे में आर्थिक गतिविधियां अभी भी अपनी पूरी रफ्तार नहीं पकड़ पाई हैं.

दूसरे देशों के हालात कैसे

इंग्लैंड दूसरे जबकि इस मामले में तीसरा सबसे प्रभावित देश फ्रांस है.
वहां जून तिमाही में ग्रोथ रेट में 13.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. इटली में 12.4 फीसदी और कनाडा में 12 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. शुरुआत में इटली में कोरोना बेकाबू हो गया था, लेकिन बाद में उसने इसपर नियंत्रण कर लिया.

यह भी पढ़ें: पांच साल बाद हमीरसर तालाब ओवरफ्लो, सरकारी दफ्तरों में सार्वजनिक अवकाश

अप्रैल-जून तिमाही में जर्मनी की जीडीपी (GDP) में 10.1 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. उसी तरह अमेरिका की जीडीपी में 9.5 फीसदी और जापान की जीडीपी में 7.6 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है.

चीन में सकारात्मक नतीजे

विकसित देशों में चीन एकलौता ऐसा देश है जिसने अप्रैल-जून तिमाही में पॉजिटिव ग्रोथ रेट रिकॉर्ड किया है. जून तिमाही में उसका ग्रोथ रेट प्लस 3.2 फीसदी रहा है.


दरअसल कोरोना की शुरुआत चीन से हुई थी. उसके बाद यह धीरे-धीरे दूसरे देशों में फैला. चीन ने करीब तीन महीने के लिए लॉकडाउन लागू कर इस वायरस पर नियंत्रण पा लिया, जिसके कारण अब हालात नियंत्रण में और सामान्य हैं. वहां आर्थिक गतिविधि तेजी से पटरी पर वापस लौटी है.

2020-21 में GDP में गिरावट का अनुमान

तमाम एजेंसियों और विशेषज्ञों ने देश के जीडीपी (GDP) में 2020-21 में गिरावट का अनुमान जताया है. मालूम हो कि सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिये 25 मार्च को पूरे देश में ‘लॉकडाउन’ लगाया था.
इसका असर अर्थव्यवस्था पर पड़ा है। केंद्र ने 20 अप्रैल से धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियों को मंजूरी देनी शुरू की.

राहुल बोले- चेतावनी को नजरअंदाज करना दुर्भाग्यपूर्ण

उधर जीडीपी (GDP) की इस गिरावट पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार पर हमला बोला है. राहुल गांधी ने कहा कि सरकार का हर चेतावनी को नजरअंदाज करते रहना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक ट्वीट में लिखा,

GDP 24% गिरा. स्वतंत्र भारत के इतिहास में सबसे बड़ी गिरावट. सरकार का हर चेतावनी को नजरअंदाज करते रहना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.

राहुल गांधी ने इस ट्वीट में अपना एक वीडियो भी जोड़ा है जिसमें वे सरकार को अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर सलाह देते नजर आ रहे हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें