Gujarat Exclusive > देश-विदेश > एशिया का सबसे भ्रष्ट देश है भारत, घूसखोरी में अव्वल: सर्वे

एशिया का सबसे भ्रष्ट देश है भारत, घूसखोरी में अव्वल: सर्वे

0
409

एशिया में भारत (India Most Corrupt Country in Asia) की छवि एकबार फिर धूमिल हुई है. ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल का एक सर्वे सामने आया है जिसके मुताबिक भारत भ्रष्‍टाचार (India Most Corrupt Country in Asia) के मामले में और अधिक गिर गया है. इस रिपोर्ट भारत को एशिया का सबसे भ्रष्‍ट (India Most Corrupt Country in Asia) देश बताया गया है. भारत में घूसखोरी की दर 39 फीसद है.

रिपोर्ट के मुताबिक एशिया के दूसरे भ्रष्ट देशों में कंबोडिया दूसरे और इंडोनेशिया तीसरे नंबर पर है. वहीं करीब 39 फीसद भारतीय (India Most Corrupt Country in Asia) मानते हैं कि उन्‍होंने अपना काम करवाने के लिए रिश्‍वत का सहारा लिया, जबकि कंबोडिया में 37 फीसद और इंडोनेशिया में ये 30 फीसद है.

यह भी पढ़ें: गुजरात में कोरोना वैक्सीन को 4 चरणों में किया जाएगा वितरण: CM रूपाणी

12 महीने में भ्रष्टाचार बढ़ा

सर्वे की मानें तो 47 फीसद लोग मानते हैं कि पिछले 12 महीनों में भ्रष्टाचार बढ़ा है. हालांकि 63 फीसदी लोगों का मानना है कि सरकार भ्रष्टाचार से निपटने के लिए उचित कदम उठा रही है. सर्वे बताता है कि भारत (India Most Corrupt Country in Asia) में 46 फीसदी लोग अपना काम करवाने के लिए निजी संपर्कों का फायदा उठाते हैं. रिपोर्ट का कहना है कि रिश्वत देने वाले करीब आधे लोगों से घूस (India Most Corrupt Country in Asia) मांगी गई है, वहीं निजी संपर्कों का इस्तेमाल करने वाले 32 फीसदी लोगों का कहना है कि अगर वे ऐसा ना करते तो उनका काम नहीं होता.

साल 2019 में 80वें पायदान पर था भारत

साल 2019 में भ्रष्‍टाचार के मामले में भारत (India Most Corrupt Country in Asia) दुनिया के 198 देशों में 80वें पायदान पर था. इस संस्‍था ने उसको 100 में से 41 नंबर दिए थे. वहीं चीन 80वें, म्‍यांमार 130वें, पाकिस्‍तान 120वें, नेपाल 113वें, भूटान 25वें, बांग्‍लादेश 146वें और श्रीलंका 93वें नंबर पर था.

मालदीव और जापान सबसे ईमानदार

एशिया के सबसे ईमानदार देशों की बात करें तो इसमें मालदीव और जापान संयुक्‍त रूप से पहले नंबर पर हैं. इन दोनों देशों में महज दो फीसद लोगों ने ही माना कि उन्‍हें कभी किसी काम के लिए रिश्‍वत देनी पड़ी. इसके बाद दक्षिण कोरिया का नंबर है जहां पर करीब 10 फीसद लोग मानते हैं कि उन्‍हें काम निकलवाने के लिए रिश्‍वत का सहारा लेना पड़ा था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें