Gujarat Exclusive > देश-विदेश > जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान की गोलाबारी में 3 जवान शहीद, भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई

जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान की गोलाबारी में 3 जवान शहीद, भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई

0
392

जम्‍मू-कश्‍मीर में लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर पाकिस्‍तान ने फिर से सीज फायर का उल्लंघन किया है. पाकिस्तान की ओर से गुरुवार को की गई गोलाबारी में भारत (Indian Army) के तीन जवान शहीद हो गए. इस गोलाबारी में कम से कम 5 सैनिक घायल भी हुए हैं. वहीं भारतीय सेना (Indian Army) भी लगातार पाकिस्तान की गोलाबारी का जवाब दे रही है.

एलओसी से लगे इलाके में पाकिस्‍तानी सैन्‍य बलों की उकसावे की कार्रवाई में दो वाकये में ये जवान शहीद हुए हैं. सेना ने कहा कि पाकिस्तान को माकूल जवाब दिया जा रहा है. भारतीय सेना (Indian Army) की मुंहतोड़ और जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान की तरफ से कितनी जानें गई हैं, अभी इसका पता नहीं चल सका है.

यह भी पढ़ें: गिरफ्तारी से पहले राहुल ने पूछा- क्या हिंदुस्तान में RSS और BJP के लोग ही चल सकते हैं?

भारतीय सेना (Indian Army) के प्रवक्ता ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के नौगाम सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से अचानक दागे गए मोर्टार में दो जवान शहीद हो गए और चार घायल हो गए. प्रवक्ता के मुताबिक घायल जवानों को वहां से हटाकर सुरक्षित ठिकाने पर ले जाया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है.

लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा पाक

पिछले आठ महीनों में पाकिस्तान द्वारा 3,000 से अधिक बार सीजफायर का उल्लंघन किए गए हैं, जो पिछले 17 वर्षों में सबसे अधिक है. साल 2003 में भारत और पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर युद्धविराम का समझौता किया था.

पुंछ में बस्तियों को निशान

पाकिस्तान पिछले पांच दिन से पुंछ में बस्तियों को निशाना बना रहा है. गोलेबारी में मंगलवार को कई जानवर घायल हो गए थे. पाकिस्तान ने सितंबर में 47 बार संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया. अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तानी बलों ने पांच सितंबर को राजौरी जिले के सुंदरबनी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास भारी गोलीबारी की थी और मोर्टार के गोले दागे थे.

इस दौरान सेना का एक जवान शहीद हो गया था और एक अधिकारी समेत दो जवान घायल हो गए थे. इससे पहले राजौरी के केरी सेक्टर में भी पाकिस्तानी सेना ने दो सितंबर को संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया था और इस दौरान एक जेसीओ शहीद हो गया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें