Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > भारत की पहली कोरोना वैक्सीन तैयार, पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से की चर्चा

भारत की पहली कोरोना वैक्सीन तैयार, पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से की चर्चा

0
4001

भारत में कोरोना की पहली वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ को हैदराबाद की फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने तैयार कर लिया है. इस वैक्सीन को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे ने साथ मिलकर बनाया गया है. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने ‘कोवैक्सीन’ के ह्यूमन ट्रायल को मंजूरी दे दी है. इसके प्री-क्लीनिकल ट्रायल कामयाब रहे थे जिसके बाद इंसानों पर ट्रायल को मंजूरी दी गई है. इसके मानव परिक्षण जुलाई में शुरू किए जाएंगे.

भारत बायोटेक की ओर से जारी बयान के मुताबिक, वैक्सीन को हैदराबाद के जीनोम वैली के बीएसएल-3 (बायो-सेफ्टी लेवल 3) हाई कंटेनमेंट फैसिलिटी में तैयार किया गया है. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया, सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (सीडीएससीओ) और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने पहले और दूसरे चरण का ह्यूमन ट्रायल शुरू करने की मंजूरी दे दी है.

भारत बायोटेक के मुताबिक, प्री-क्लीनिकल ट्रायल में वैक्सीन के नतीजे बेहतर मिले हैं. यह काफी सुरक्षित है. इम्यून रेस्पॉन्स को तेज करती है. बता दें कि भारत बायोटेक के अलावा देश की पांच और फार्मा कंपनियां वैक्सीन तैयार करने में लगी हैं.

 

उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शाम चार बजे राष्ट्र को संबोधित से पहले कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने को लेकर अहम बैठक की. देश में कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने का काम जोरों पर चल रहा है और कई एजेंसियां इनमें लगी हैं. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी मसले पर उच्च स्तरीय बैठक की, जिसमें देश के कई बड़े अधिकारी और वैज्ञानिक शामिल हुए. बता दें कि भारत सरकार की मदद से वैक्सीन बनाने और उसपर रिसर्च का काम चल रहा है.

बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम केअर्स से कुछ फंड इसी रिसर्च के लिए भी दिया था. इस बैठक में पीएम मोदी ने अधिकारियों से कहा कि वे टेक्नोलॉजी का सहारा लेकर समय पर वैक्सीन बनाएं. इसके अलावा बड़ी संख्या में वैक्सीन कैसे बन पाएगी, इसकी तैयारी करें.

कोरोना से हुई थी दूल्हे की मौत, बारात और अंतिम संस्कार में शामिल लोगों की जान अटकी