Gujarat Exclusive > देश-विदेश > भारत द्वारा अपने मित्र देशों के खोने के सवाल पर विदेश मंत्री का जवाब, ‘अब हमें पता है कि कौन है हमारा सच्चा दोस्त’

भारत द्वारा अपने मित्र देशों के खोने के सवाल पर विदेश मंत्री का जवाब, ‘अब हमें पता है कि कौन है हमारा सच्चा दोस्त’

0
719

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को दिल्ली में आयोजित ग्लोबल बिजनेस समिट में देश के दूसरे देशों के साथ रिश्तों पर चर्चा की. इस दौरान उन्होंने कई अहम मुद्दों पर खुलकर अपनी बात रखी. एस जयशंकर से जब पूछा गया कि क्या हम दुनियाभर में अपने दोस्तों को खो रहे हैं तो जवाब में उन्होंने कहा, ‘शायद हमें पता चल रहा है कि कौन सच में हमारे दोस्त हैं.

विदेश मंत्री ने कहा, ‘एक समय था जब भारत बहुत रक्षात्मक था, हमारी क्षमताएं कम थीं, जोखिम अधिक थे, खतरे ज्यादा थे, इसलिए हमने दुनिया को मैनेज करने की रणनीति अपनाई, दूर रहना. हम अब ऐसा नहीं कर सकते, हम दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं. अब दुनिया का स्वभाव बदल गया है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘मैं इसे बहुत विश्वास के साथ कह सकता हूं कि आज अगर आप किसी भारतीय दूतावास में जाते हैं, तो वह लोग एक ग्रहणशीलता को बढ़ाते हैं और बहुत हद तक आपका समर्थन करते हैं, जो शायद कुछ साल पहले तक नहीं होता था.’

हाल ही में दिल्ली हिंसा को लेकर ईरान सहित कई देशों की प्रतिक्रियाएं हैं. इनमें से ज्यादातर देश भारत के अच्छे दोस्त रहे हैं. ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खोमैनी ने गुरुवार को भारत सरकार से तथाकथित कट्टरपंथी हिंदुओं और उनकी पार्टियों को रोकने की अपील की. खोमैनी ने कहा कि भारत मुसलमानों पर हिंसा रोके नहीं तो वह इस्लामिक जगत से अलग-थलग पड़ जाएगा. उन्होंने कहा कि दिल्ली में हुई हालिया हिंसा से दुनिया भर के मुसलमान दुखी हैं. नई दिल्ली में ईरान के राजदूत अली चेगेनी को भारत द्वारा तलब किए जाने और दिल्ली में हिंसा पर ईरानी विदेश मंत्री जवाद जरीफ की ‘अवांछित’ टिप्प्णियों को लेकर सख्त विरोध दर्ज कराये जाने के दो दिनों बाद खोमैनी का यह बयान आया है. इसके नागरिकता कानून को लेकर भी कई देशों से अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आई हैं.

CAA विरोध: योगी सरकार का एक नया कारनामा, लखनऊ में टंगवाए आरोपियों के नाम और पता वाले होर्डिंग