Gujarat Exclusive > देश-विदेश > LAC पर सैनिकों में हिंसक झड़प में भारतीय सेना ने भी 5 चीनी मार गिराए

LAC पर सैनिकों में हिंसक झड़प में भारतीय सेना ने भी 5 चीनी मार गिराए

0
1715

भारत-चीन सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में तीन भारतीय सैनिक शहीद हो गए हैं जिसमें सेना के एक अफसर भी शामिल हैं. सेना ने कहा है कि दोनों ओर के सैनिक हताहत हुए हैं. बताया जा रहा है कि सिर्फ भारत की तरफ ही नहीं बल्कि चीन के 5 सैनिकों की मौत हुई है. लद्दाख के गलवान घाटी में हुई इस घटना के बारे में सेना ने कोई संख्या तो नहीं बताई है लेकिन सैन्य सूत्रों के मुताबिक चीन के तीन सैनिक मारे गए हैं.

उधर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा है कि  चीन ने भारत के समक्ष अभ्यावेदन और विरोध दर्ज कराया है. यहां, हम भारत को प्रासंगिक समझौते का ईमानदारी से पालन करने और अपने सीमावर्ती सैनिकों को सख्ती से रोकने की मांग कर रहे हैं. उन्हें सीमा पार नहीं करनी चाहिए. चीनी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स के प्रधान संपादक ने ट्वीट किया है कि ” गलवान वैली की झड़प में चीनी सैनिक भी हताहत हुए हैं”.

भारत और चीनी सैनिकों के बीच यह घटना सोमवार रात को हुई है. दोनों ओर से पत्थरों का इस्तेमाल हुआ है. 1975 के बाद यह पहली बार है जब भारत-चीन सीमा पर किसी सैनिक की शहादत हुई हो. पिछले करीब डेढ़ महीने से भारत और चीन सैनिकों के बीच लद्दाख में तनातनी चल रही है.

न्यूज एजेंसी एनएनआई के मुताबिक, सोमवार रात लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई. इसमें भारतीय सेना के एक अफसर और दो जवान शहीद हो गए. दोनों देशों के सेना के उच्च अधिकारी मौके पर बातचीत करके स्थिति को संभालने में जुटे हैं. अधिकारियों ने बताया कि भारतीय सेना अध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने मंगलावर को पठानकोट की प्रस्तावित यात्रा रद्द कर दी है. इस मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि भारत के शहीद सैनिकों में एक कर्नल भी शामिल हैं.

भारतीय और चीनी सैनिकों में पैंगोंग सो इलाके में पांच मई को हिंसक झड़प हुई थी जिसके बाद से दोनों पक्ष वहां आमने-सामने थे और गतिरोध बरकरार था. यह 2017 के डोकलाम घटनाक्रम के बाद सबसे बड़ा सैन्य गतिरोध बन रहा था. छह जून को हुई थी वार्ता दोनों देशों के बीच मौजूदा तनाव को लेकर अब तक की उच्च स्तरीय वार्ता छह जून को हुई थी.

विपक्ष ने चीन सीमा पर जवानों की शहादत को लेकर सरकार से मांगा स्पष्टीकरण