Gujarat Exclusive > गुजरात > जामनगर में नाबालिग के साथ बलात्कार, पीड़िता के पिता ने की आत्महत्या

जामनगर में नाबालिग के साथ बलात्कार, पीड़िता के पिता ने की आत्महत्या

0
448
  • जमानगर में एक बार फिर सामने आई बलात्कार की घटना
  • नाबालिग को धमका कर युवन ने बनाया हवस का शिकार
  • समाज में बदनामी के डर से पीड़िता के पिता ने की आत्महत्या

जामनगर: गुजरात में दुष्कर्म के मामले बढ़ रहे हैं. 17 साल की लड़की को बीते दिनों कुछ लोगों ने अपने हवस का शिकार बनाया था.

यह मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि जामनगर से एक अन्य बलात्कार की घटना सामने आ रही है. नाबालिग के साथ आठ महीना पहला बलात्कार किया गया था.

मामले की जानकारी होने के बावजूद पिता ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं कराया था. क्योंकि उसे डर था कि मामला सामने आने पर समाज में उसकी बदनामी होगी.

लेकिन पीड़िता बालिग होने के बाद जामजोधपुर पुलिस स्टेशन में आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कराया है.

पीड़िता के पिता ने की आत्महत्या

जामनगर के जामजोधपुर तहसील के वरवाणा गाँव में रहने वाली पीड़िता अभी बालिग हुई है. आठ महीना पहले, कुतियाणा में रहने वाला अश्विन वाढिया नाम का एक युवक उसे तंग कर रहा था.

आरोपी उसके भाई और पिता को जान से मारने की धमकी देकर उसके साथ बलात्कार किया था.

इस हादसे की जानकारी उसके पिता को मिली लेकिन वह समाज में बदनामी होने की डर से जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी.

यह भी पढ़ें: सूरत: दुष्कर्म की कोशिश करने वाले युवक की महिला ने की हत्या, हुई गिरफ्तार

नाबालिग पीड़िता बालिग होने के बाद अश्विन वाढिया के खिलाफ पुलिस स्टेशन में दुष्कर्म की शिकायत दर्ज कराई है. पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और नाबालिग को मेडिकल जांच के लिए जामनगर अस्पताल में भेजा गया है.

उल्लेखनीय है कि हाल ही में जामनगर में भी हाथरस जैसी घटना सामने आई थी. जिले में 17 वर्षीय नाबालिग के साथ चार लोगों ने बलात्कार किया था.

पुलिस ने मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए मामले में शामिल चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

गुजरात को महिलाओं की सुरक्षा के मामले में सबसे सुरक्षित राज्य माना जाता है. लेकिन पिछले कुछ महीनों में दुष्कर्म की घटनाओं में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है.

गुजरात सरकार महिलाओं की सुरक्षा के लिए कई कदम भी उठा रही है. बलात्कार के आरोपियों के लिए सजा भी सख्त कर दिया है.

बावजूद इसके ऐसे में मामलों में कमी आने का नाम नहीं ले रही.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात में शराब बंदी? लेकिन NCRB की रिपोर्ट ने खोल दी पोल