Gujarat Exclusive > देश-विदेश > जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने खराब सेहत की वजह से दिया इस्तीफा

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने खराब सेहत की वजह से दिया इस्तीफा

0
269
  • पुरानी बीमारी अल्सरेटिव कोलाइटिस से जूझ रहे पीएम
  • 2007 में भी शिंजे आबे ने छोड़ा था अपना पद
  • जापान के सबसे ज्‍यादा समय तक रहने वाले प्रधानमंत्री

Japan PM News : जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने स्‍वास्‍थ्‍य कारणों से अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया है. खबरों के मुताबिक, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अपनी सेहत कारणों को लेकर इस्तीफा दिया है. शिंजो आबे बीमार चल रहे हैं.

शिंजो आबे पिछले कई दिनों से पेट की बीमारी से परेशान चल रहे हैं और उन्‍हें कई बार हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा है.
उनके इस्‍तीफे की अटकलें काफी दिनों से लग रही थीं. आज शिंजो आबे ने अपने इस्‍तीफ का औपचारिक रूप से ऐलान कर दिया. शिंजो आबे एक सप्‍ताह के अंदर दो बार हॉस्पिटल जा चुके हैं.

अब आबे ने आधिकारिक रूप से अपने पद से इस्‍तीफे का ऐलान कर दिया है.
शिंजो आबे ने कहा,

मैंने प्रधानमंत्री के पद से हटने का फैसला किया है. मैं अपनी इस बीमारी के लिए एक नया ट्रीटमेंट करा रहा हूं, जिसमें नियमित रूप से जांच और देखरेख की जरूरत है. मैं अपने ट्रीटमेंट के दौरान अपने कर्तव्यों के निर्वहन के लिए पर्याप्त समय नहीं दे पाऊंगा. अब जब मैं विश्वास के साथ लोगों से मिले जनादेश को पूरा करने में सक्षम नहीं हूं, तो मैंने फैसला किया है कि मुझे अब प्रधानमंत्री के पद पर बने नहीं रहना चाहिए.

बताया जा रहा है कि आबे तब तक पद पर बने रहेंगे, जब तक कि उनकी सत्तारूढ़ लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी एक उत्तराधिकारी नहीं चुन लेती.

यह भी पढ़ें: AIMIM ने दी सड़क पर नमाज पढ़ने की धमकी, ओवैसी का हिंदुत्य के मुद्दे पर हमला

दूसरी बार पद छोड़ा

आबे के इस्‍तीफे के बीच जापान का शेयर बाजार धराशायी हो गया है.
यह दूसरी बार है जब स्वास्थ्य कारणों से आबे को अपना पद छोड़ना पड़ा है. इससे पहले उन्होंने 2007 में एक साल तक ऑफिस में रहने के बाद अपना पद छोड़ा था.
वह दुबारा 2012 में भारी बहुमत के साथ सत्ता में वापस लौटे थे.
उधर, जापान के सत्‍ताधारी दल ने कहा है कि आबे की तबीयत ठीक है.
पीएम पद के लिए चुनाव पार्टी के सांसदों और सदस्यों के बीच ही होने की संभावना है.

पुरानी बीमारी से जूझ रहे हैं आबे

बताया जा रहा है कि आबे पुरानी बीमारी अल्सरेटिव कोलाइटिस से जूझ रहे हैं.
इसके अलावा, प्रधानमंत्री शिंजो आबे के स्वास्थ्य को लेकर अटकलें हफ्तों से लग रही हैं, मगर हाल के दिनों में लगातार तेज बुखार आने की वजह से वह जांच के लिए दो बार अस्पताल गए.

सबसे ज्यादा समय तक पीएम रहने का रिकॉर्ड

बताया जा रहा है कि पिछली बार जब आबे हॉस्पिटल गए थे तब वह करीब 7 घंटे तक वहां रहे थे. उनका कार्यकाल सितबंर 2021 तक है. गत सोमवार को आबे ने अपने कार्यालय में 8 साल पूरे कर लिए और वह जापान के सबसे ज्‍यादा समय तक रहने वाले प्रधानमंत्री बन गए थे.

आबे देश की सत्ता पर 2803 दिनों से पदासीन थे. इससे पहले यह रिकॉर्ड उनके चाचा और देश के पूर्व प्रधानमंत्री इसाकु सैतो के नाम था.
शिंजो लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (एलडीपी) पार्टी के सदस्य हैं. देश में जारी कोरोना महामारी के बाद से मांग हो रही थी कि आबे नागरिकों को इससे निपटने को लेकर किए गए कामों के बारे में बताएं.

हालांकि इसके बावजूद आबे बीते 50 दिनों से किसी कार्यक्रम में नजर नहीं आए.
18 जून को यह सूचना दी गई थी कि वे अपने घर पर मीडिया से बातचीत करेंगे मगर ऐसा नहीं हो पाया.
24 अगस्त को कैबिनेट सेक्रेटरी योशिहिडे सुगा ने शिंजो की सेहत को लेकर जारी चर्चाओं को खारिज कर दिया था.
उन्होंने कहा था कि आबे बिलकुल ठीक हैं और नियमित जांच के लिए अस्पताल आ रहे हैं.

लोकप्रियता में आई कमी

हाल के दिनों में कोरोना वायरस को ठीक से नहीं संभालने पर उनकी लोकप्रियता में भी करीब 30 प्रतिशत की कमी आई है.
उनकी पार्टी इन दिनों कई घोटालों से जूझ रही है. 65 साल के आबे ने देश की अर्थव्‍यवस्‍था को फिर से पटरी पर लाने का वादा किया था.
चीन के खतरे को देखते हुए आबे जापानी सेना को भी मजबूत करने में जुटे हुए थे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें