Gujarat Exclusive > देश-विदेश > JEEपरीक्षा का आगाज, कोरोना की वजह से छात्रों को इन नियमों का करना होगा पालन

JEEपरीक्षा का आगाज, कोरोना की वजह से छात्रों को इन नियमों का करना होगा पालन

0
1192
  • सुप्रीम कोर्ट से हरी झंडी मिलने के बाद तय वक्त जेईई परीक्षा का आगाज
    परीक्षा को लेकर शिक्षा मंत्रालय ने जारी किया नई गाइडलाइन
    विपक्ष कोरोना काल में परीक्षा आयोजित कराने का कर रहा था विरोध
    परीक्षा के दौरान कोरोना काल के नियमों का करना होगा पालन 

देश की दो अहम परीक्षा कोरोना संकटकाल के बीच आयोजित की जा रही है. इस मामले को लेकर सियासी घमासान भी देखने को मिला और छात्रों की नाराजगी भी बावजूद इसके आज से जीईई-मुख्य परीक्षा का आज से आगाज हो गया.

सुबह 8 बजे से छात्र परीक्षा केंद्र पर पहुंच रहे हैं. लेकिन परीक्षाखंड में जाने से पहले सभी का बॉडी टेम्परेचर चेक करने के साथ ही साथ तीन लेयर वाला नया मास्क भी दिया जा रहा है.

इतना ही नहीं एंट्री प्वॉइंट पर ही छात्रों का हाथ सैनिटाइज करवाया जा रहा है ताकि परीक्षा को ज्यादा से ज्यादा सुरक्षित बनाया जा सके.

1 से 6 सितंबर की बीच आयोजित होगी परीक्षा

कोरोना संकटकाल में पूरे देश में इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश के लिए आज से जेईई-मुख्य परीक्षा का आगाज हो गया है. नेशनल टेस्ट एजेंसी 1 सितंबर से 6 सितंबर के बीच यह परीक्षा आयोजित कर रही है.

इस अहम परीक्षा में देश भर से कुल 8.58 लाख छात्र हिस्सा ले रहे हैं. कोरोना के बढ़ते आतंक के बीच होने वाली इस परीक्षा को लेकर विशेष सावधानी बरती जा रही है.

छात्रों कोरोना से बचाना नेशनल टेस्ट एजेंसी के सामने एक बड़ी चुनौती है. इसलिए परीक्षा केंद्रों पर सुरक्षा के साथ ही साथ बचाव के कड़े इंतजाम किए गए हैं.

यह भी पढ़ें: योगी सरकार को हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका, डॉ. कफील पर NSA लगाना अवैध

परीक्षा देने वाले छात्रों को इन नियमों का पालन करना होगा

  • परीक्षा के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा
    परीक्षाखंड में जाने से पहले बॉडी की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी
    एक छात्र को दूसरे छात्र के बीच 6 मीटर की दूरी बनाकर रखनी होगी
    परीक्षा के दौरान मास्क और हाथ में दस्ताना पहनना होगा
    खुद की बोतल से पानी पीना होगा
    परीक्षा केंद्र में सैनिटाइजर ले जाने की छात्रों को अनुमति दी गई है

गौरतलब है कि कोरोना काल में परीक्षा आयोजित करने के अपने फैसले पर अडिग रहने वाली केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने इस परीक्षा को लेकर कई दिशा-निर्देश जारी किया था.

इतना ही नहीं सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन हो सके और छात्रों को तालाबंदी के इस दौर में लंबा सफर ना तय करना पड़े इसलिए परीक्षा की शिफ्ट को 8 से बढ़ाकर 12 कर दिया गया था.

वहीं परीक्षा केंद्र की संख्या 570 से बढ़ाकर 660 कर दी गई है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

कोरोना और बाढ़ की वजह से JEE-NEET की परीक्षा हो स्थगित: ओडिशा सीएम