Gujarat Exclusive > राजनीति > कपिल सिब्बल ने फिर कांग्रेस नेतृत्व का उठाया मुद्दा, कहा- पार्टी बदलाव के लिए नहीं है गंभीर

कपिल सिब्बल ने फिर कांग्रेस नेतृत्व का उठाया मुद्दा, कहा- पार्टी बदलाव के लिए नहीं है गंभीर

0
266

नई दिल्ली: बिहार के साथ-साथ मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और गुजरात सहित कई अन्य राज्यों में होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा. Kapil Sibal Congress

पार्टी के नेताओं के अलावा, गठबंधन के नेता भी हार से परेशान हैं और कांग्रेस को आत्मनिरीक्षण करने की सलाह दे रहे हैं.

बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन को मिलने वाली हार का जिम्मेदार कांग्रेस को माना जा रहा है. Kapil Sibal Congress

इस बीच कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने भी आलाकमान को आत्मनिरीक्षण करने की सलाह देकर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है.

अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में कपिल सिब्बल ने कहा, न केवल बिहार में, बल्कि जहां भी उपचुनाव हुए हैं, कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते हैं. यह एक निष्कर्ष है.

बिहार में राजद ही एकमात्र विकल्प था. हम गुजरात में सभी उपचुनाव हार गए. हम लोकसभा चुनाव में एक भी वहां एक सीट नहीं जीत पाए.

उत्तर प्रदेश की कुछ सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवारों को 2 फीसदी से भी कम वोट मिले. मुझे उम्मीद है कि कांग्रेस आत्मनिरीक्षण करेगी. Kapil Sibal Congress

यह भी पढ़ें: AIMIM को बिहार में मिली शानदार कामयाबी, अकबरुद्दीन ने कहा पूरे देश में लहराएंगे परचम

कांग्रेस हर सवाल का जवाब जानती है लेकिन नहीं देती जवाब

कपिल सिब्बल ने कहा कि अगर कांग्रेस ने छह साल तक आत्ममंथन नहीं किया है तो अब हम क्या उम्मीद कर सकते हैं?  Kapil Sibal Congress

हम जानते हैं कि कांग्रेस में क्या गलत है, संगठनात्मक रूप से हम जानते हैं कि क्या गलत है. मुझे लगता है कि हमारे पास सभी उत्तर हैं.

कांग्रेस पार्टी खुद ही सारे जवाब जानती है लेकिन वह इसका जवाब नहीं देना चाहती. अगर पार्टी आत्मनिरीक्षण नहीं करेगी तो अभी इसका ग्राफ और गिरेगा.

कांग्रेस कार्य समिति पर बोलते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि इसके संविधान को भी लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को अपनाना चाहिए, जो कांग्रेस संविधान के प्रावधानों में परिलक्षित होता है.

आप नामांकित सदस्यों से ऐसा उम्मीद नहीं करते कि वह सवाल ना खड़ा करे.

इतना ही नहीं कपिल सिब्बल ने आगे कहा कि सबसे पहले कांग्रेसियों को समझना चाहिए कि हम गिरावट में हैं. जब से संचार क्रांति हुई है, तब से चुनाव प्रेसीडेंशियल चुनाव के रूप में बदल गए हैं.

इस चुनावी प्रक्रिया में हमें इसका जवाब ढूंढना होगा और फिर तय करना होगा कि हम क्या करना चाहते हैं. Kapil Sibal Congress

यदि हम अपने कर्मियों की पहचान नहीं कर सकते हैं तो चुनाव प्रक्रिया में इसका परिणाम नहीं मिलेगा. हमारी बात सुनने के बजाय, वह हमारे खिलाफ जवाबी कार्रवाई कर रहे हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

ओबामा ने राहुल गांधी को बताया नर्वस नेता, भड़के राउत ने कहा- वह भारत को नहीं जानते