Gujarat Exclusive > देश-विदेश > हरियाणा में बुरे फंसे BJP विधायक, किसानों के सवालों से परेशान कार छोड़कर भागे

हरियाणा में बुरे फंसे BJP विधायक, किसानों के सवालों से परेशान कार छोड़कर भागे

0
403
  • कृषि बिल के खिलाफ देशभर में जारी है किसानों का विरोध प्रदर्शन
  • विरोध कर रहे किसानों से बीजेपी विधायक का हुआ सामना
  • सवालों का जवाब नहीं देने पाने पर मौके से फरार हुए भाजपा विधायक
  • विधायक के फरार होने पर किसानों ने जमकर की भाजपा के खिलाफ नारेबाजी

किसानों के विरोध और विपक्ष के हंगामे के बावजूद लोकसभा और राज्यसभा में किसान बिल पास हो चुका है. कृषि बिल के खिलाफ जहां देशभर में किसान संगठन से जुड़े लोग विरोध कर रहे हैं.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मॉनसून सत्र में संसद से पास होने वाले किसान और खेती से जुड़े कृषि बिलों पर मंजूरी की मुहर लगा दी है.

जिसके बाद देशभर में किसानों ने विरोध प्रदर्शन तेज कर दिया है.

किसानों के सवालों से बौखलाए भाजपा विधायक

इस बीच हरियाणा में बीजेपी के एक विधायक बुरे में फंस गए. उनका एक विरोध सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है.

कृषि बिल का विरोध कर रहे किसानों से बीजेपी विधायक राम कुमार कश्यप का सामना हो गया. किसानों के धारदार सावलों में फंसे विधायक महोयद पहले को किसानों को समझाने की कोशिश किया.

लेकिन जब किसानों के चौटीले सवालों का जवाब नहीं दे पाए तो मौके से पैदल ही अपनी कार छोड़कर भाग निकलने में ही अपनी भलाई समझी.

यह भी पढ़ें: राजधानी दिल्ली में किसानों का प्रदर्शन, संसद भवन के करीब ट्रैक्टर में लगाई आग

 

धरादार सवालों से परेशान कार छोड़कर हुए फरार

सोशल मीडिया पर वायर हो रहा वीडियो @ramanmann1974 ट्विटर हैंडल से शेयर किया गया है.

बीजेपी विधायक राम कुमार कश्यप किसानों के सवालों का सामना नहीं कर पाए और मौके पर फरार हो गए जिसके बाद गुस्साए किसानों ने खट्टर और बीजेपी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

कल राष्ट्रपति ने लगाई थी मंजूरी की मुहर

संसद के मॉनसून सत्र में लाए गए कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक 2020, कृषक (सशक्तीकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक-2020 को पहले संसद के दोनों सदनों की मंजूरी मिल चुकी है.

अब इस पर राष्ट्रपति की मुहर भी लग चुकी है. ये तीनों विधेयक कोरोना काल में पांच जून को घोषित तीन अध्यादेशों की जगह लेंगे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

कृषि बिल को मिली राष्ट्रपति की मंजूरी, अकाली दल ने बताया देश के लिए काला दिन