Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात से शराबबंदी हटाने पर बहनें सुरक्षित नहीं रहेंगी, सदन में सीएम रुपाणी का बयान

गुजरात से शराबबंदी हटाने पर बहनें सुरक्षित नहीं रहेंगी, सदन में सीएम रुपाणी का बयान

0
669

गांधीनगर: गुजरात विधानसभा के बजट सत्र में प्रश्नकाल चल रहा है. विधानसभा में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य में शराब पर लगे प्रतिबंध को लेकर महत्वपूर्ण बयान दिया है.

सीएम रुपाणी ने कहा कि अगर गुजरात से शराबबंदी हटा दी जाएगी तो बहनें सुरक्षित नहीं रहेंगी. Liquor ban laws from Gujarat

गुजरात में शराब पर प्रतिबंध है इसलिए शांति और सुरक्षा है.

गुजरात के गठन से लागू है शराब पर प्रतिबंध

समय-समय पर गुजरात से शराबबंदी कानून को खत्म करने की मांग की जाती है. 1960 में गुजरात के गठन के बाद से शराब पर प्रतिबंध लगा रहा है.

महाराष्ट्र से अलग होने वाले गुजरात में शराब पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. लेकिन महाराष्ट्र में शराबबंदी को लागू नहीं किया गया था.

पूर्व मुख्यमंत्री भी शराबबंदी कानून हटाने की कर चुके हैं मांग Liquor ban laws from Gujarat

गुजरात में शराब पर प्रतिबंध हटाने के लिए गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला भी समय-समय पर बयान देते रहते हैं. Liquor ban laws from Gujarat

शंकरसिंह वाघेला कह चुके हैं कि भाजपा-कांग्रेस दोनों को राज्य से शराब पर प्रतिबंध हटाने में दिलचस्पी नहीं क्योंकि इससे दोनों को फायदा हो रहा है.

गुजरात में शराबबंदी एक दिखावा है और इसे हटाया जाना चाहिए. Liquor ban laws from Gujarat

दूसरी ओर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने दोहराया है कि शराब पर प्रतिबंध की वजह से गुजरात की प्रगति और सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण कारक रहा है.

गौरतलब है कि अन्य राज्यों से बड़ी मात्रा में शराब की तस्करी होती है. राज्य से शराबबंदी कानून हटाने की सोशल मीडिया पर भी अभियान चल चुका है.

गुजरात की हकीकत देखने के बाद ऐसा लगता है कि राज्य में शराबबंदी कानून सिर्फ सरकारी फाइलों में नजर आती है. Liquor ban laws from Gujarat

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद की आयशा जैसी सूरत की शबाना की कहानी, पति ने कहा- मर क्यों नहीं जाती