Gujarat Exclusive > राजनीति > बिहार चुनाव: भाजपा को दूसरा झटका, LJP में शामिल हुईं वरिष्ठ नेता उषा विद्यार्थी

बिहार चुनाव: भाजपा को दूसरा झटका, LJP में शामिल हुईं वरिष्ठ नेता उषा विद्यार्थी

0
311

लग रहा है आगामी बिहार विधानसभा चुनावों (Bihar Assembly Elections) में भाजपा (BJP) और जदयू (JDU) की जुगलबंदी के सामने लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) कड़ी चुनौती पेश करने जा रही है. भाजपा की वरिष्ठ नेता डॉ. उषा विद्यार्थी ने लोजपा (LJP) का हाथ थाम लिया. बुधवार को लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई.

यह भाजपा के लिए किसी झटके से कम नहीं है, क्योंकि कल ही पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह ने भी लोजपा (LJP) का हाथ थामा. चिराग ने बीजेपी की पूर्व विधायक उषा विद्यार्थी को पालीगंज विधानसभा से टिकट दिया है. वो 2010 में इस सीट से विधायक रह चुकी हैं.

दरअसल एलजेपी (LJP) अध्यक्ष चिराग पासवान  बिहार विधान सभा चुनावों (Bihar Assembly Elections) में भाजपा के बागियों के सहारे उनके उम्मीदवारों के खिलाफ बड़ा दांव भी खेल रहे हैं. इससे जेडीयू खेमे में बेचैनी है.

यह भी पढ़ें: बटलर पर भारी पड़ी सूर्यकुमार की पारी, मुंबई से राजस्थान की टीम हारी

2015 के चुनावों में इस सीट से राजद के टिकट पर जयवर्धन यादव ने बीजेपी उम्मीदवार को हराया था. इस बार ये सीट जेडीयू के खाते में गई है. जेडीयू ने जयवर्धन यादव को उम्मीदवार बनाया है. यादव राजद छोड़कर जेडीयू में शामिल हो गए थे. अब जेडीयू को चुनौती देने के लिए लोजपा ने वहां से उषा विद्यार्थी को उतारा है.

एमए और पीएचडी के साथ एलएलबी की डिग्री

मालूम हो कि उषा विद्यार्थी ने एमए, पीएचडी और एलएलबी किया हुआ है. उन्होंने 1992 में राजनीति में प्रवेश किया था. उषा पिछले 28 वर्षों से भाजपा में जुड़ी थीं. वह भाजपा संगठन में काम करते हुए विभिन्न पदों पर रह चुकी हैं. उषा प्रदेश उपाध्यक्ष और प्रदेश प्रवक्ता के पद पर भी रह चुकी हैं.

राजेंद्र सिंह भी थापा LJP का दामन

इससे पहले, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह लोजपा (LJP) में शामिल हो गए. पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई. इसी के साथ लोजपा ने राजेंद्र सिंह को दिनारा सीट से अपना उम्मीदवार भी बना दिया.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें