Gujarat Exclusive > राजनीति > खतरे में पासवान की पार्टी का अस्तित्व, लोजपा की इकलौती विधान पार्षद भाजपा में शामिल

खतरे में पासवान की पार्टी का अस्तित्व, लोजपा की इकलौती विधान पार्षद भाजपा में शामिल

0
353

LJP: बिहार में रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) का अस्तित्व खतरे में नजर आ रहा है. पार्टी से लगातार नेताओं के टूटने का सिलसिला जारी है. इसी बीच लोजपा को एक और बड़ा झटका लगा है. सोमवार को लोजपा की एकमात्र विधान पार्षद नूतन सिंह भी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं. हालांकि मई में नूतन सिंह का कार्यकाल विधान परिषद में समाप्त हो रहा है. LJP

लोजपा नेत्री और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री नीरज सिंह बबलू की पत्नी नूतन सिंह ने सोमवार को भाजपा का दामन थाम लिया. बता दें कि नीरज बबलू बॉलीवुड के दिवंगत एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत के चचेरे भाई हैं. LJP

यह भी पढ़ें: बांग्ला में पीएम मोदी का संबोधन, कहा- पश्चिम बंगाल परिवर्तन का मन बना चुका

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने पार्टी प्रदेश मुख्यालय के अटल सभागार में नूतन सिंह को भाजपा की सदस्यता दिलाई. इस मौके पर पूर्व आइएएस अधिकारी उदय प्रताप सिंह ने भी भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. भाजपा के मुख्यालय प्रभारी सुरेश रूंगटा ने दोनों नेताओं का स्वागत किया. LJP

‘मिलकर करेंगे काम’

भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद वन एवं पर्यावरण मंत्री नीरज कुमार बबलू की पत्नी नूतन सिंह ने कहा कि मेरे पति भाजपा में हैं, इसलिए मैंने भी बीजेपी में में शामिल होने का फैसला किया है, ताकि हम दोनों साथ मिलकर काम कर सकें. LJP

नूतन 2015 में स्थानीय प्राधिकार से एमएलसी चुनी गईं थी. वह सहरसा, मधेपुरा और सुपौल स्थानीय का नेतृत्व करती हैं. बिहार विधान परिषद में नूतन लोजपा की इकलौती नेत्री थीं. नूतन के पाला बदलने के साथ विधान परिषद में लोजपा नेतृत्व विहीन दल हो गया. हाल ही में लोजपा के दो सौ से ज्‍यादा नेता जदयू में शामिल हुए हैं. LJP

नेताओं के जाने का सिलसिला जारी

लोकजनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान के निधन के बाद लोजपा में हालात ठीक नहीं चल रहे हैं. पार्टी के नेता पार्टी छोड़कर अन्य दलों का दामन थाम रहे हैं. चिराग पासवान की तमाम कोशिशों के बावजूद उनकी पार्टी के कई नेता दूसरे दलों से जुड़ रहे हैं. बुधवार को पूर्व विधायक और भाजपा से लोजपा में आए रामेश्वर चौरसिया ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया. इसी तरह गुरुवार को पार्टी के 208 नेताओं ने लोजपा का ‘बंगला’ छोड़कर जदयू में शामिल हो गए. LJP

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें