Gujarat Exclusive > देश-विदेश > देश में ही नहीं विदेश में भी बने भगवान राम सियासी मुद्दा, नेपाली पीएम का विवादित बयान

देश में ही नहीं विदेश में भी बने भगवान राम सियासी मुद्दा, नेपाली पीएम का विवादित बयान

0
682

भारत में भगवान राम को अक्सर चुनावी मुद्दा बनते देखा गया है. लेकिन पहली बार ऐसा हो रहा है जब भगवान राम को विदेश में भी चुनावी मुद्दे के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा हो. नेपाली प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली अपनी कुर्सी को बचाने के लिए चीन के इशारों पर लगातार भारत को लेकर विवादित बयान दे रहे हैं. इसी कड़ी उन्होंने एक नया बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अयोध्या भारत में नहीं बल्कि नेपाल में है और भगवान राम भारतीय नहीं बल्कि नेपाली हैं.

मिल रही जानकारी के अनुसार सोमवार काठमांडू में प्रधानमंत्री आवास होने वाले एक प्रोग्राम में नेपाली पीएम के पी ओली ने कहा कि नेपाल की ‘सांस्कृति अतिक्रमण का शिकार हुआ है. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि दशरथ नेपाल के राजा थे यह स्वाभाविक है कि उनके पुत्र का जन्म नेपाल में हुआ था इसलिए अयोध्या नेपाल में है. उन्होंने कहा कि भगवान राम का जन्म दक्षिणी नेपाल के थोरी में हुआ था.

नेपाली प्रधानमंत्री के इस बयान से जहां भारत में नाराजगी दिखाई दे रही है. वहीं वह अपने इस बयान की वजह नेपाल में भी आलोचना का शिकार हो रहे है. इस मामले को लेकर पूर्व उप प्रधानमंत्री कमल थापा ने कहा कि किसी भी देश के प्रधानमंत्री को इस तरह का आधारहीन और अप्रामाणित बयान नहीं देना चाहिए. उनके बयान से ऐसा लगता है कि पीएम ओली भारत और नेपाल के रिश्ते और बिगाड़ना चाहते हैं.

गौरतलब हो कि भारत का पड़ोसी मुल्क नेपाल के साथ रोटी और बेटी का रिश्ता रहा है. लेकिन नेपाल पिछले कुछ दिनों से चीन के सह पर भारत के खिलाफ लगातार बयान देकर दोनो देश के रिश्तों में तनाव ला रहा है. इससे पहले भी नेपाली पीएम ओली ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री पद से मुझे हटाने की साजिश की जा रही है. जिसे दिल्ली से संभाला जा रहा है.

आज फिर से होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक, समझौते के फॉर्मुले पर होगी चर्चा