Gujarat Exclusive > देश-विदेश > मध्य प्रदेश में सियासी संग्राम : SC ने स्पीकर से पूछा- विधायकों के इस्तीफे पर फैसला क्यों नहीं लिया, कल फिर होगी सुनवाई

मध्य प्रदेश में सियासी संग्राम : SC ने स्पीकर से पूछा- विधायकों के इस्तीफे पर फैसला क्यों नहीं लिया, कल फिर होगी सुनवाई

0
706

मध्य प्रदेश में जारी सियासी संग्राम लगातार अधर में लटकता जा रहा है. बुधवार को फ्लोर टेस्ट कराने की बीजेपी की अर्जी पर सुनवाई करते सुप्रीम कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर के वकील अभिषेक मनु सिंघवी से पूछा कि आप विधायकों के इस्तीफे पर फैसला क्यों नहीं ले रहे. स्वीकार करने की स्थिति में वो खुद ब खुद अयोग्य हो जायेंगे और अगर आप संतुष्ट नहीं हैं तो इस्तीफे खारिज कर सकते हैं. आपने 16 मार्च को बजट सत्र स्थगित कर दिया. अगर बजट ही नहीं पास होगा तो सरकार कैसे काम करेगी. अब इस मामले की सुनवाई गुरुवार को होगी.

सुप्रीम कोर्ट के सवाल उठाने के बाद सिंघवी ने इसका विरोध करते हुए कहा कि विधायकों के इस्तीफे स्वीकार किए जाने की सूरत में विधायक खुद ब खुद अयोग्य हो जायेंगे. दूसरी तरफ कांग्रेस के बागी विधायकों की ओर से पेश हुए वकील मनिंदर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि सभी 22 विधायकों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि वो अपनी मर्जी से इस्तीफा दे रहे है. उन्होंने बकायदा हलफनामा दाखिल किए है. हम सबूत के तौर पर कोर्ट में सीडी जमा करने के लिए तैयार है. उन्होंने कोर्ट से कहा कि जब हम भोपाल में आकर कांग्रेस से मिलना ही नहीं चाहते हैं तो हमें इसके लिए कैसे मजबूर नहीं किया जा सकता है.

इससे पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह बागी विधायकों से मिलने बुधवार सुबह बेंगलुरु पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उन्हें होटल के अंदर जाने की अनुमति नहीं दी. दिग्विजय इससे नाराज होकर बाहर ही धरने पर बैठ गए. वहीं बेंगलुरु में ठहरे मध्यप्रदेश कांग्रेस के 22 भागी विधायकों ने कर्नाटक के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को पत्र लिखकर किसी कांग्रेसी नेता से नहीं मिलने का अनुरोध किया.

कांग्रेस नेताओं से नहीं मिलना चाहते हैं बागी विधायक, कर्नाटक DGP को लिखी चिट्ठी