Gujarat Exclusive > देश-विदेश > मध्य प्रदेश में सियासी घमासान : कल होगा फ्लोर टेस्ट, राज्यपाल ने कमलनाथ सरकार को लिखा पत्र

मध्य प्रदेश में सियासी घमासान : कल होगा फ्लोर टेस्ट, राज्यपाल ने कमलनाथ सरकार को लिखा पत्र

0
330

मध्य प्रदेश में जारी सियासी घमासान के बीच एक बड़ी खबर सामने आ रही है. मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने सूबे के मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखाकर कल (17 मार्च) को फ्लोर टेस्ट कराने को कहा है. इससे पहले कमलनाथ सरकार द्वारा सोमवार को फ्लोर टेस्ट न कराने का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंचा जिस पर मंगलवार ही सुनवाई होनी है. उधर बीजेपी एकबार फिर अपने विधायकों को हरियाणा के मानेसर में भेजने की तैयारी कर रही है. इससे पहले भी पार्टी के विधायकों को हॉर्स ट्रेडिंग के डर से मानेसर भेजा गया था.

राज्यपाल लालजी ने सीएम कमलनाथ को लिखा है कि 17 मार्च को फ्लोर टेस्ट कराएं, अन्यथा ऐसा माना जाएगा कि आपके पास संसद में बहुमत नहीं है. अब राज्यपाल लालजी टंडन के इस बयान से मध्य प्रदेश की राजनीति में नया मोड़ आ गया है. इससे पहले सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और 9 विधायकों ने राज्यपाल लालजी टंडन के निर्देश पर भी फ्लोर टेस्ट नहीं कराने और 26 मार्च तक विधानसभा स्थगित किए जाने के बाद सुप्रीम कोर्ट का रुख किया.

सुप्रीम कोर्ट में दायर अपनी अर्जी में शिवराज सिंह ने कहा है कि मध्य प्रदेश में कमल नाथ सरकार को 12 घंटे में बहुमत साबित करने का निर्देश दिया जाए. कोर्ट इस मसले पर मंगलवार को सुनवाई करेगा. शिवराज चौहान और बाकी 9 विधायकों की ओर से दायर अर्जी में कहा गया है कि कमलनाथ की सरकार बहुमत खो चुकी है. इस सरकार को अब एक दिन भी सत्ता में बने रहने का कोई नैतिक, क़ानूनी, लोकतांत्रिक और संवैधानिक अधिकार नहीं है. सीएम की ओर से अल्पमत को बहुमत में बदलने के लिए विधायकों को धमकी से लेकर प्रलोभन दिए जा रहे है. विधायको को खरीद फरोख्त जारी है. याचिका में स्पीकर, कमलनाथ, मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रिंसिपल सेकेट्री को पक्षकार बनाया गया है.

बीजेपी ने रजिस्ट्रार के सामने जल्द सुनवाई की मांग की थी. रजिस्ट्री ने आश्वस्त किया कि कल सुनवाई हो सकती है बशर्ते अर्जी में कुछ तकनीकी खामियो को दुरस्त कर लिया जाए. इसके पहले मध्य प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र सोमवार को हंगामे की भेंट चढ़ गया. विधानसभा की कार्यवाही को 26 मार्च तक के लिए स्थगित करना पड़ा है. इस दौरान राज्यपाल लालजी टंडन ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की.

राज्यपाल से मिले भाजपा विधायक

विधानसभा में फ्लोर टेस्ट नहीं होने के बाद भाजपा के विधायक पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राजभवन राज्यपाल लालजी टंडन से मिलने पहुंचे. शिवराज सिंह ने चौहान ने राज्यपाल के सामने अपनी पार्टी के सभी 106 विधायकों की परेड करवाई और समर्थन की सूची सौंपी. राज्यपाल ने सभी विधायकों को भरेासा दिया कि किसी भी विधायकों के अधिकारों का हनन नहीं होगा. लोकतंत्र बचाने की जिम्मेदारी मेरी है. वह संविधान के अनुसार ही कार्रवाई करेंगे.

पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कमलनाथ रणछोड़दास हैं. उनकी सरकार को कोरोनावायरस भी नहीं बचा सकता. आज विधानसभा में राज्यपाल के निर्देशों का पालन नहीं हुआ. कमलनाथ सरकार मैदान छोड़कर भाग गई. हमारे पास 106 विधायक है. कांग्रेस के पास 92 विधायक है. राज्य में जल्द ही भाजपा की सरकार बनने जा रही है.

मध्य प्रदेश: आज नहीं होगा फ्लोर टेस्ट, 26 मार्च तक विधानसभा स्थगित