Gujarat Exclusive > राजनीति > महाराष्ट्र: पिता के मंत्रीमंडल में आदित्य ठाकरे शामिल, अजित पवार फिर से बने उपमुख्यमंत्री

महाराष्ट्र: पिता के मंत्रीमंडल में आदित्य ठाकरे शामिल, अजित पवार फिर से बने उपमुख्यमंत्री

0
301

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपनी सरकार का अपना पहला कैबिनेट विस्तार कर लिया है. सरकार गठन के करीब एक महीने बाद ठाकरे सरकार के पहले कैबिनेट विस्तार में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के कई विधायकों ने मंत्रीपद की शपथ ली. इस दौरान एनसीपी नेता अजित पवार ने उपमुख्मयंत्री पद की शपथ ली. आईये जानते हैं किस पार्टी के किन नेताओं ने ली शपथ.

शिवसेना के ये विधायक बनेंगे मंत्री

अनिल परब – कैबिनेट मंत्री
उदय सामंत – कैबिनेट मंत्री
गुलाबराव पाटील – कैबिनेट मंत्री
शंभूराजे देसाई
दादा भुसे – कैबिनेट मंत्री
संजय राठोड
अब्दुल सत्तार
राजेंद्र पाटील यड्रावकर
शंकरराव गडाख
बच्चू कडू
संदीपन भुमरे – कैबिनेट मंत्री
आदित्य ठाकरे – कैबिनेट मंत्री

एनसीपी के इन विधायकों को मिला मंत्रीपद

अजित पवार – डिप्टी सीएम
धनंजय मुंडे – कैबिनेट मंत्री
दिलीप वलसे पाटिल – कैबिनेट मंत्री
नवाब मलिक –
जितेंद्र अव्हाड़ – कैबिनेट मंत्री
हसन मुश्रीफ – कैबिनेट मंत्री
बालासाहेब पाटिल – कैबिनेट मंत्री
अनिल देशमुख – कैबिनेट मंत्री
अदिति तत्कारे –
राजेंद्र शिंगणे – कैबिनेट मंत्री

कांग्रेस के इन विधायकों को मिला मंत्रीपद

अशोक चव्हाण – कैबिनेट मंत्री
केसी पाडवी – कैबिनेट मंत्री
विजय वडेट्टीवार – कैबिनेट मंत्री
अमित विलासराव देशमुख – कैबिनेट मंत्री
सुनील छत्रपाल केदार – कैबिनेट मंत्री
यशोमती ठाकुर – कैबिनेट मंत्री
वर्षा एकनाथ गायकवाड – कैबिनेट मंत्री
अस्लम शेख – कैबिनेट मंत्री
सतेज उर्फ बंटी पाटील – राज्यमंत्री
डॉ. विश्वजीत पतंगराव कदम – राज्यमंत्री

आपको बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव मे बीजेपी को 105, शिवसेना को 56, एनसीपी को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें मिली हैं. बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर बहुमत का 145 का आंकड़ा पार कर लिया था. लेकिन शिवसेना ने 50-50 फॉर्मूले की मांग रख दी जिसके मुताबिक ढाई-ढाई साल सरकार चलाने का मॉडल था. शिवसेना का कहना है कि बीजेपी के साथ समझौता इसी फॉर्मूले पर हुआ था लेकिन बीजेपी का दावा है कि ऐसा कोई समझौता नहीं हुआ. इसी लेकर मतभेद इतना बढ़ा कि दोनों पार्टियों की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई. इसके बाद बड़े नाटकीय घटनाक्रम के बाद शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना ली.