Gujarat Exclusive > देश-विदेश > महाराष्ट्र में मंदिरों का कपाट खोलने की मांग को लेकर बीजेपी का विरोध प्रदर्शन

महाराष्ट्र में मंदिरों का कपाट खोलने की मांग को लेकर बीजेपी का विरोध प्रदर्शन

0
568
  • महाराष्ट्र में धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग को लेकर बीजेपी का आंदोलन
  • राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आमने सामने
  • अनलॉक-3 के तहत धार्मिक स्थलों को खोलने की शर्तों के साथ दी गई है अनुमति

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते आंतक के बीच मंदिरों के कपाट को खोलने की मांग तेज हो गई है. भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कोरोना की वजह से लगे धार्मिक स्थल पर प्रतिबंध को हटाने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

इस दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने जमकर उद्धव ठाकरे सरकारे के खिलाफ नारेबाजी की.

जानकारी सामने आ रही है कि सीएम उद्धव और राज्यपाल के बीच इस मामले को लेकर तल्खियां बढ़ गई हैं.

धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग को लेकर बीजेपी का आंदोलन

महाराष्ट्र में भाजपा कार्यकर्ताओं ने सिद्धिविनायक मंदिर के बाहर उद्धव सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया. भाजपा ने मांग किया कि महाराष्ट्र में सभी मंदिरों को श्रद्धालुओं के लिए खोला जाए.

विरोध प्रदर्शन करने वाले बीजेपी नेताओं ने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना संकट के बीच शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है. इतना ही नहीं होम डिलीवरी भी की जा रही है.

लेकिन जो लोग अपनी मानसिक शांति के लिए मंदिर जाना चाहते हैं. उनके बार में सरकार सोच ही नहीं रही है. भाजपा कार्यकर्ताओं ने उद्धव सरकार पर अहंकारी सरकार को भी आरोप लगाया.

यह भी पढे़ं: WHO ने की भारत की तारीफ, कहा- कोरोना के खिलाफ आरोग्य सेतु एप ने अदा की अहम भूमिका

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आमने सामने

इस बीच जानकारी सामने आ रही है कि महाराष्ट्र में धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग को लेकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आमने सामने आ गए हैं.

राज्यपाल कोश्यारी ने सीएम को खत लिखकर धार्मिक स्थलों को खोलने का आग्रह किया है. पत्र में कोश्यारी ने कहा कि 1 जून से राज्य में धार्मिक स्थलों को खोलने का आपकी सरकार ने ऐलान किया गया था.

लेकिन चार महीने बीत जाने के बावजूद भी इस दिशा में कोई भी कदम नहीं उठाया गया है.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार कोरोना पर काबू पाने के बाद देश में अनलॉक की प्रक्रिया को चालू कर चुकी है. अनलॉक-3 की गाइड लाइन के अनुसार देश में धार्मिक स्थलों को कुछ शर्तों के साथ खोलने की अनुमति दी गई थी.

लेकिन महाराष्ट्र सरकार ने धार्मिक स्थलों पर प्रतिबंध लगा रखा था. ऐसे में भाजपा अब मंदिरों को खोलने की मांग को लेकर रास्ते पर उतर गई है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अटल टनल से सोनिया गांधी की नाम वाली तख्ती गायब, कांग्रेस करेगी विरोध प्रदर्शन