Gujarat Exclusive > देश-विदेश > महाराष्ट्र का नया सियासी मिजाज, MNS ने बदला नारा और झंडे का रंग, राज ठाकरे के बेटे की राजनीति में एंट्री

महाराष्ट्र का नया सियासी मिजाज, MNS ने बदला नारा और झंडे का रंग, राज ठाकरे के बेटे की राजनीति में एंट्री

0
452

महाराष्ट्र की राजनीति में दबदबा रखने वाले शिवसेना संस्थापक बाला साहेब ठाकरे की आज जयंती है. बाला ठाकरे को श्रद्धांजलि देने के लिए शिवसेना कार्यकर्ताओं ने जहां शिवाजी पार्क में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. लेकिन बाला ठाकरे के श्रद्धांजलि के दिन ही महाराष्ट्र का सियासी मिजाज में बदलाव देखने को मिल रहा है. ऐसे में शिवसेना संस्थापक बाल ठाकरे की राजनीतिक विरासत के असल वारिस कौन इसको लेकर जंग तेज हो गई है.

उद्धव ठाकरे अयोध्या राममंदिर जाकर संदेश देना चाहते हैं तो महाराष्ट्र नव निर्माण पार्टी के प्रमुख राज ठाकरे बाल ठाकरे की जयंती के दिन से अपनी विचारधारा को ‘मराठी मानुष’ से ‘हिंदुत्व’ की ओर ले जाने की तैयारी में है. हिंदुत्व अवतार के लिए एमएनएस का नारा और पार्टी का झंडा बदलेंगे.

शिवसेना से नाता तोड़ने के बाद राज ठाकरे पहली बार बाला साहेब ठाकरे के जयंती पर पूरे दिन का कार्यक्रम कर रहे हैं. राज ठाकरे इस मौके पर अपनी पार्टी झंडा बदल रहे हैं. एमएनएस के पांच रंग के झंडे को अब भगवा रंग दिया गया है. भगवा ध्वज पर शिवाजी की मुहर है और उस पर संस्कृत में श्लोक लिखा गया है- ‘प्रतिपच्चन्द्रलेखेव वर्धिष्णुर्विश्ववन्दिता, शाहसूनो: शिवस्यैषा मुद्रा भद्राय राजते.’ इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने अपने बेटी की आज राजनीति में एंट्री भी करवा दी है.

एक तीर से दो निशाना

राज ठाकरे ने जहां अपना नारा और पार्टी झंडा का रंग बदलकर हिन्दुत्व सोच का इजहार किया वहीं अमित ठाकरे को भी पार्टी में लाकर शिवसेना के नक्शे कदम पर चलने की कोशिश कर रहे हैं. हाल ही में राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में आदित्य वर्ली सीट से चुनाव जीतकर विधायक बने. बाद में उन्हें पिता उद्धव के कैबिनेट में भी जगह दी गई. ऐसे में राज ठाकरे ने भी अमित को सक्रिय राजनीति में उतारकर राज्य के युवा वोटर्स को लुभाना चाहा हैं.