Gujarat Exclusive > राजनीति > ममता बनर्जी का केंद्र पर हमला, कहा- पहले दिल्ली संभालें फिर बंगाल की सोंचें

ममता बनर्जी का केंद्र पर हमला, कहा- पहले दिल्ली संभालें फिर बंगाल की सोंचें

0
157

Mamata Banerjee on Tractor Rally: कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली में ट्रैक्टर रैली के दौरान जमकर हिंसा हुई. इस हिंसा पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं. इसी बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधा है. ममता का कहना है कि हम किसानों के साथ  हैं और ये तीनों कानून वापस होने चाहिए.

ममता (Mamata Banerjee) बनर्जी की सरकार ने कृषि कानूनों के विरोध और उन्हें निरस्त करने को लेकर विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र बुलाया है. इन कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया गया. ममता (Mamata Banerjee) ने कृषि कानूनों को लेकर हो रहे आंदोलन और दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर भी सरकार पर जमकर निशाना साधा.

यह भी पढ़ें: 2020 की घटनाओं ने भारत-चीन संबंधों पर बढ़ाया अप्रत्याशित दबाव- विदेश मंत्री

ममता (Mamata Banerjee) ने मोदी सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि पहले दिल्ली संभालें फिर बंगाल के बारे में सोचें. ममता बनर्जी ने कहा,

दिल्ली में ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के लिए केंद्र के असंवेदनशील रवैये, किसानों के प्रति उदासीनता को दोषी ठहराया जाना चाहिए. हम किसानों को गद्दार के तौर पर पेश किये जाने को स्वीकार नहीं करेंगे.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री (Mamata Banerjee) ने विधानसभा में कहा, ”कृषि कानूनों की वापसी को लेकर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री को सर्वदलीय बैठक बुलानी चाहिए.”

ममता ने आगे कहा,

हम किसानों के साथ हैं और चाहते हैं कि ये कानून वापस हों. ये कानून जबरदस्ती पास करवाए गए हैं. मोदी सरकार ने दिल्ली में हुई हिंसा को बहुत खराब तरीके से हैंडल किया. वहां जो हुआ उसके लिए पूरी तरह से बीजेपी जिम्मेदार है. पहले दिल्ली को संभालो, फिर बंगाल के बारे में सोचो.

जारी है आंदोलन

बता दें कि कृषि कानून के खिलाफ किसानों का आंदोलन दिल्ली की सीमा पर आज 64वें दिन जारी है. ये किसान तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद से किसान आंदोलन में शामिल नेताओं पर सवाल उठ रहे हैं.

मालूम हो कि दिल्ली में ट्रैक्टर रैली की हिंसा में सैकड़ों पुलिस वाले जख्मी हुए हैं जिनमें से कईयों की हालत गंभीर बताई जा रही है. उधर हिंसा के बाद अब तक तीन किसान संगठन आंदोलन से हट गए हैं.

गाजीपुर बॉर्डर पर पानी की सप्लाई कटी

उधर गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली और यूपी की पुलिस पहुंच गई है. पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर पर मौजूद किसानों से आज सड़क खाली करने को कहा है. राकेश टिकैत समेत तमाम लोगों से बातचीत हो रही है. मंच से राकेश टिकैत ने कहा कि अगर पुलिस हमें गिरफ्तार करती है तो हम शांतिपूर्ण गिरफ्तारी दे सकते हैं. बता दें कि गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों की वॉटर सप्लाई काट दी गई है. पुलिस ने यहां लगाए गए पोर्टेबल टॉयलेट भी हटाने शुरू कर दिए हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें