Gujarat Exclusive > देश-विदेश > लोगों को पसंद नहीं आई खिलौने पर पीएम मोदी के ‘मन की बात’

लोगों को पसंद नहीं आई खिलौने पर पीएम मोदी के ‘मन की बात’

0
402

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को मन की बात (Mann Ki Baat) रेडियो कार्यक्रम के जरिए देश की जनता को संबोधित किया जहां उन्होंने लोगों से लोकल खिलौनों के लिए वोकल होने की बात कही थी. हालांकि पीएम मोदी की यह अपील लोगों को पसंद नहीं आई.

दरअसल मन की बात (Mann Ki Baat) कार्यक्रम से जुड़ा यह वीडियो भारतीय जनता पार्टी के यू-ट्यूब चैनल पर रिलीज हुआ है, जिसे अब तक 11 लाख से भी ज्यादा बार देखा जा चुका है.
लेकिन हैरान करने वाली बात तो यह है कि मन की बात कार्यक्रम को जहां 36 हजार लाइक्स मिले हैं.
वहीं इसे करीब 3 लाख से ज्यादा डिसलाइक्स भी मिले हैं.

यह भी पढ़ें: 30 सितंबर तक सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर पाबंदी, जारी रहेगी विशेष विमान की सेवा

सोशल मीडिया यूजर ने पीएम नरेंद्र मोदी के मन की बात (Mann Ki Baat) कार्यक्रम पर कमेंट्स के जरिए आक्रोश भी जताया.

पीएम मोदी के ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) कार्यक्रम पर कई सोशल मीडिया यूजर ने जहां नीट और जेईई परीक्षा को लेकर बात रखी तो वहीं कई यूजर ने रोजगार से जुड़े मुद्दे कमेंट सेक्शन में उठा रहे हैं.

पीएम मोदी ने क्या की थी अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को स्टार्ट-अप एवं नये उद्यमियों से खिलौना उद्योग से बड़े पैमाने पर जुड़ने के साथ-साथ भारत में और भारत के ‘कंप्यूटर गेम्स’ बनाने का आह्वान किया.
उन्होंने कहा कि ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान में इन क्षेत्रों को बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है.

आकाशवाणी पर मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) की 68वीं कड़ी में पीएम मोदी ने कहा,

“अब सभी के लिये Local खिलौनों के लिये Vocal होने का समय है. आइए, हम अपने युवाओं के लिये कुछ नए प्रकार के, अच्छी क्वालिटी वाले, खिलौने बनाते हैं. खिलौना वो हो जिसकी मौजूदगी में बचपन खिले भी, खिलखिलाए भी. हम ऐसे खिलौने बनाएं, जो पर्यावरण के भी अनुकूल हों. हमारे देश में इतने आइडिया हैं, इतने कन्सेप्ट हैं, बहुत समृद्ध हमारा इतिहास रहा है. क्या हम उन पर गेम्स बना सकते हैं. मैं देश के युवा टैलेंट से कहता हूं, आप, भारत में भी गेम्स बनाइये, और, भारत के भी गेम्स बनाइये.”

स्थानीय खिलौनों की समृद्ध भारतीय परंपरा की विस्तृत चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इसके बावजूद सात लाख करोड़ रुपये के विश्व खिलौना कारोबार में भारत का हिस्सा बहुत कम है.
उन्होंने कहा कि अब सभी के लोकल खिलौनों के लिए वोकल होने का समय है.

मोदी ने बच्चों और युवाओं में कंप्यूटर गेम्स के बढ़ते प्रचलन की चर्चा करते हुए कहा कि आज इस प्रकार के जितने भी गेम्स होते हैं उनका मजमून अधिकतर बाहरी होता है.

डॉग स्क्वॉड की की सराहना

पीएम मोदी ने मन की बात (Mann Ki Baat) देश की सुरक्षा संबंधी विभिन्न अभियानों में श्वान दल (डॉग स्क्वॉड) की भूमिका की सराहना की और कहा कि भारतीय प्रजाति के श्वान भी बहुत अच्छे और बहुत सक्षम होते हैं और सुरक्षा एजेंसियां अब देसी प्रजाति के श्वान को अपने सुरक्षा दस्ते में शामिल कर रही हैं.

पोषण के विभिन्न पहलुओं की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि पूरे देश में सितंबर महीने को पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा.
उन्होंने लोगों से इस आंदोलन को जनभागीदारी का स्वरूप देने की अपील की.
एजेंसियांकोरोना और कृषिप्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना जैसी महामारी से पैदा हुई असाधारण परिस्थितियों के बावजूद देश में खरीफ की फसल की बुवाई पिछले साल के मुकाबले सात फीसद ज्यादा हुई है.

किसानों के परिश्रम को सराहते हुए मन की बात (Mann Ki Baat) में मोदी ने कहा कि धान की रोपाई इस बार लगभग 10 प्रतिशत, दालें लगभग पांच प्रतिशत, मोटे अनाज लगभग तीन प्रतिशत, तिलहन लगभग 13 प्रतिशत और कपास की लगभग तीन प्रतिशत ज्यादा बुवाई की गई है.
उन्होंने बताया कि एक ‘भारतीय कृषि कोष’ तैयार किया जा रहा है जिसमें हर एक जिले की फसलों और उनकी पोषक क्षमताओं की पूरी जानकारी होगी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें