Gujarat Exclusive > राजनीति > सीएम रूपाणी से बात करने के बाद मनसुख वसावा ने वापस लिया इस्तीफा

सीएम रूपाणी से बात करने के बाद मनसुख वसावा ने वापस लिया इस्तीफा

0
218

गांधीनगर: भरूच के भाजपा सांसद मनसुख वसावा (Mansuk Vasava) ने अपना इस्तीफा वापस ले लिया है. मनसुख वसावा ने कहा है कि सरकार या पार्टी से उनकी कोई नाराजगी नहीं है. मनसुख वसावा (Mansuk Vasava) ने कहा, “डॉक्टर ने मुझे आराम करने की सलाह दी है. सीएम ने मुझसे बात की है और मुझे दिल्ली में इलाज कराने के लिए कहा है.”

मनसुख वसावा (Mansuk Vasava) ने कहा, “मुझे गर्दन की समस्या है. मुझे काम करते समय चक्कर भी आते हैं. डॉक्टरों ने मुझे 6 महीने तक इलाज करने को कहा है.” पार्टी ने मुझसे कहा है कि चिंता न करें, आपका काम संगठन में अन्य लोगों द्वारा संभाला जाएगा.”

यह भी पढ़ें: पार्टी से नाराज होकर नहीं बल्कि खराब स्वास्थ्य की वजह से दिया इस्तीफा: मनसुख वसावा

लव जिहाद मामले में वसावा को धमकी

उधर लव जिहाद मामले को लेकर मनसुख वसावा (Mansuk Vasava) को लंदन से धमकी मिली. बीजेपी सांसद ने मामले की सूचना पुलिस को दी और शिकायत दर्ज कराई है. मालूम हो कि मनसुख वसावा ने कहा कि गुजरात में लव जिहाद कानून गुजरात में भी बनना चाहिए. ताकि कोई भी हिंदू लड़की ‘लव जिहाद’ जैसी साजिश का शिकार न हो सके. विदेशी ताकतों के इशारे पर कुछ मुस्लिम युवकों द्वारा देश भर में हिंदू लड़कियों को बहकाने की साजिश रची जा रही है. 2-3 पत्नियों वाले कुछ मुस्लिम युवक हिंदू लड़कियों को भी लालच देते हैं और उन्हें इस्लाम में परिवर्तित करते हैं.

वसावा ने मंगलवार को दिया था इस्तीफा

गौरतलब है कि भाजपा सांसद मनसुख वसावा (Mansuk Vasava) के अचानक पार्टी से इस्तीफा देने से भाजपा में राजनीतिक भूचाल आ गया था. वसावा ने एक पत्र लिखकर सीआर पाटिल को अपना इस्तीफा भेज दिया था. हालांकि इस्तीफा देने के बाद वसावा गायब हो गए थे. लेकिन वह मंगलवार अचानक राजपिपणा सर्किट हाउस पहुंचे और बड़ा ऐलान किया.

मनसुख वसावा (Mansuk Vasava) राजपिपणा सर्किट हाउस पहुंचकर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया. मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी और सरकार से कोई शिकायत नहीं है. मेरे करीबी दोस्त भी जानते हैं कि मैं लंबे समय से बीमार चल रहा हूं. मैंने पार्टी को पहले भी इस मामले की सूचना दी थी. बता दें कि 2019 लोकसभा चुनाव में वसावा ने कांग्रेस उम्मीदवार शेर खान पठान को मात देकर चुनाव जीतने में कामयाबी हासिल की थी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें