Gujarat Exclusive > देश-विदेश > अलास्का में 7.8 की तीव्रता से आए भूकंप के बाद सुनामी की चेतावनी जारी

अलास्का में 7.8 की तीव्रता से आए भूकंप के बाद सुनामी की चेतावनी जारी

0
696

पिछले कुछ महीनों से पृथ्वी के नीचे कुछ ज्यादा ही हलचल चल रही है. पिछले दो महीने में भारत सहित दुनिया के कई हिस्सों में दर्जनों बार भूकंप के झटके महसूस किए जा चुके हैं. इस बीच अमेरिका के अलास्का में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए हैं. खबरों के मुताबिक, भूंकप की तीव्रता 7.8 मापी गई है.

उधर भूकंप को देखते हुए संयुक्त राज्य भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (USGS) विभाग ने दक्षिण अलास्का और  अलास्का प्रायद्वीप के लिए सुनामी की चेतावनी जारी की है. अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग ने कहा कि अलास्का प्रायद्वीप में 7.8 तीव्रता का भूकंप आया, जिससे भूकंप के केंद्र से 300 किलोमीटर के दायरे के भीतर क्षेत्रों में सुनामी की चेतावनी जारी की गई है.

सुबह 6 बजकर 12 मिनट पर हिली धरती

खबरों के मुताबिक, भूकंप जीएमटी के अनुसार बुधवार को सुबह 6 बजकर 12 मिनट पर एंकरेज के दक्षिण-पश्चिम में लगभग 500 मील दूर और पेरीविले के सुदूर बस्ती से लगभग 60 मील साउथ-साउथईस्ट में आया है. पेसेफिक सुनामी चेतावनी केंद्र ने कहा, “शुरुआती भूकंप मापदंडों के आधार पर… भूकंप के केंद्र से 300 किमी के भीतर स्थित तटों पर खतरनाक सुनामी लहरें उठने की संभवना हैं.” विभाग ने बताया कि अमेरिका के अन्य हिस्सों और उत्तरी अमेरिका में कनाडाई प्रशांत तटों के लिए सुनामी खतरे के स्तर का मूल्यांकन किया जा रहा है.” भूकंप के झटके सैकड़ों मील तक महसूस किए गए हैं.

1964 में आई थी तबाही

इससे पहले भी अलास्का भयंकर भूकंप की तबाही देख चुका है. अलास्का में मार्च 1964 में 9.2 तीव्रता का भूंकप आया था. उत्तरी अमेरिका का यह अभी तक का सबसे शक्तिशाली भूकंप है. तब भीषण सुनामी आई थी, जिसने अलास्का की खाड़ी, अमेरिका के पश्चिमी तट और हवाई को बुरी तरह प्रभावित किया था. भूकंप और सुनामी में 250 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी.

भारत में सिलसिलेवार झटके

पिछले कुछ महीनों से भारत में भी भूकंप के कई झटके महसूस किए गए हैं. दिल्ली-एनसीआर में दर्जनों भूकंप के झटके महसूस किए गए जबकि कश्मीर से लेकर गुजरात तक भूकंप के कारण लोगों की जान पर आफत बनी रही है. हालांकि भारत में आने वाले भूकंप के झटके कम तीव्रता वाले रहे हैं जिसकी वजह से कोई जानमाल का खतरा नहीं हुआ है लेकिन मौसम विभाग के विशेषज्ञों ने तेज भूकंप को लेकर चिंता जाहिर की है.

शरजील इमाम कोरोना से संक्रमित, 25 जुलाई को होनी है कोर्ट में पेशी