Gujarat Exclusive > गुजरात > मायावती ने जन्माष्टमी पर दी बधाई, गुजरात के आदिवासी विधायक ने शुरू किया विवाद

मायावती ने जन्माष्टमी पर दी बधाई, गुजरात के आदिवासी विधायक ने शुरू किया विवाद

0
451

विशाल मिस्त्री, राजपिपणा: कोरोना वायरस के साए में आज श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जा रहा है. देश हिंदुओं के आराध्य भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के उल्लास में डूबा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित देश के कई दिग्गज लोग ट्वीट कर देशवासियों को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई दे रहे हैं.

ऐसे में उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी सोशल मीडिया के माध्यम से देशवासियों को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएं दी.

उनके इस ट्वीट पर आदिवासी नेता और बीटीपी विधायक छोटूभाई वसावा विवाद खड़ा कर दिया है.

छोटूभाई वसावा ने मायावती पर बोला हमला 

आदिवासी नेता और बीटीपी विधायक छोटूभाई वसावा ने मायावती के ट्वीट का स्क्रीन शॉट अपने ट्वीटर अकाउंट पर साझा करते हुए मायावती पर जमकर हमला बोला.

उन्होंने लिखा- “बहुजन/मूलवासी/मूलनिवासी शब्दों के जाल में फांस कर आदिवासी शब्द को खत्म करने और आदिवासियों को उपयोग करने वाले लोगों से सावधान @Mayawati ने #विश्व_आदिवासी_दिवस पर आदिवासियों को शुभकामनाएं नहीं दी थी.

ये आदिवासी समुदाय याद रखे और बाकी समुदाय भी यह बात को समझे जिनकी खुद की संस्कृति, सभ्यता है.”

 

मायावती ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के त्योहार पर लोगों को बधाई देते हुए कोरोना संकटकाल में सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन करने की अपील करते हुए ट्वीट कर लिखा है- “श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर देशवासियों को हार्दिक बधाई व शुभकामनायें. साथ ही, वे इस पर्व को इस बार कोरोना महामारी के चलते तथा इस मामले में सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पूरी तरह से पालन करते हुए अपने घरों पर ही मनायें तो बेहतर है, ताकि इस महामारी के प्रकोप से आप सुरक्षित रहें.”

इससे पहले छोटू वसावा सरकार को बता चुके हैं आदिवासी विरोधी 

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले झारखंड के आदिवासियों को एटीएस ने सूरत जिले से सरकार विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोपों को लेकर गिरफ्तार किया था.

इस घटना के बाद छोटूभाई वसावा सोशल मीडिया पर एक अभियान चलाया था और सरकार आदिवासी विरोधी बताया था.

जिसके बाद भाजपा सांसद मनसुखभाई वसावा ने छोटूभाई वसावा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि “वे अनावश्यक विवाद पैदा कर रहे हैं.”

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सचिन पायलट की वापसी के बाद नाराज हुए गहलोत खेमे के विधायक