Gujarat Exclusive > राजनीति > कृषि कानून अगर किसानों के लिए बनाए गए हैं तो लाखों लोग बॉर्डर पर क्यों बैठे हैं? प्रियंका गांधी

कृषि कानून अगर किसानों के लिए बनाए गए हैं तो लाखों लोग बॉर्डर पर क्यों बैठे हैं? प्रियंका गांधी

0
200

मोदी सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान का आंदोलन 100 दिन के पार पहुंच गया है. जहां एक तरफ आंदोलनरत किसान तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं.

वहीं किसानों के आंदोलन पर राजनीति भी जोरों से चल रही है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा उत्तर प्रदेश के मेरठ में होने वाली किसान पंचायत में हिस्सा लिया.

किसान पंचायत को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. Meerut Kisan Panchayat Priyanka Gandhi

मेरठ किसान पंचायत में पहुंची प्रियंका गांधी Meerut Kisan Panchayat Priyanka Gandhi

किसान पंचायत को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रधानमंत्री दिल्ली बॉर्डर इसलिए नहीं जा सकते क्योंकि वो किसानों का आदर नहीं कर रहे.

क्योंकि उनकी सरकार किसानों के लिए नहीं चल रही है, देशवासियों के लिए नहीं चल रही है उनकी सरकार उद्योगपतियों के लिए चल रही है, बड़े-बड़े खरबपतियों के लिए के लिए चल रही है.

देशवासियों के लिए नहीं उद्योगपतियों के लिए चल रही केंद्र सरकार Meerut Kisan Panchayat Priyanka Gandhi

इतना ही नहीं प्रियंका गांधी ने कहा कि आज किसान लाखों की संख्या में दिल्ली बॉर्डर पर बैठा है तो क्या इस देश के PM और देश की सरकार को उनका आदर नहीं करना चाहिए?

क्या वो उस लायक भी नहीं कि आप उनसे मिले? Meerut Kisan Panchayat Priyanka Gandhi

भयंकर सर्दी थी, बिजली काटी गई फिर भी किसान टिके रहे फिर भी आप सोचते हैं कि आपको उनके पास नहीं जाना चाहिए.

मेरठ में किसान पंचायत को संबोधित करते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका ने कहा कि ये जो 3 कानून हैं.

ये क्या आपके (किसान) भलाई के लिए बनाएं गए हैं या मोदी जी के खरबपति मित्रों के भलाई के लिए बनाएं गए हैं? आज 100 दिन पूरे हो गए हैं, लाखों किसान बॉर्डर पर बैठें हैं.

अगर ये कानून आपके लिए बनाया गया है तो आप में से लाखों लोग बॉर्डर पर क्यों बैठे हैं? Meerut Kisan Panchayat Priyanka Gandhi

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

PM मोदी पर ममता बनर्जी का पलटवार, परिवर्तन बंगाल में नहीं बल्कि दिल्ली में होगा