Gujarat Exclusive > देश-विदेश > सरकार से चौथे दौर की बैठक के लिए किसान रवाना, बेनतीजा साबित हो चुकी है पहले की बैठक

सरकार से चौथे दौर की बैठक के लिए किसान रवाना, बेनतीजा साबित हो चुकी है पहले की बैठक

0
370

केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा लागू कृषि कानून के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन आठवें दिन भी जारी है. अपनी मांग को लेकर सड़कों पर उतरे किसानों को मनाने के लिए केंद्र सरकार पहल कर रही है. Meeting government and farmers

बावजूद इसके अभी तक बातचीत का कोई ठोस नतीजा नहीं निकला है. जिसकी वजह से किसानों का आंदोलन भी तेज हो गया है.

किसान संगठनों का मानना है कि जब तक केंद्र सरकार इस कानून को वापस नहीं लेती किसानों का आंदोलन जारी रहेगा.

इस बीच जानकारी मिल रही है कि एक बार फिर चौथे दौर की बैठक किसान और केंद्र सरकार के बीच आज दोपहर 12 बजे आयोजित होने वाली है.

सरकार और किसान नेताओं के बीच 12 बजे होगी चौथे दौर की बैठक Meeting government and farmers

केंद्र सरकार के साथ चौथे दौर की बैठक के लिए अलग-अलग किसान संगठन के नेता सिंघु बॉर्डर से दिल्ली जाने के लिए रवाना हो गए हैं. Meeting government and farmers

किसान और केंद्र सरकार के बीच होने वाली बैठक राजधानी दिल्ली के विज्ञान भवन में 12 बजे आयोजित होगी. इस बीच MSP को लेकर केंद्र सरकार ने दावा किया है कि इसे जारी रखा जाएगा और सरकार किसानों को लिखकर देने को भी तैयार है. Meeting government and farmers

आंदोलनकारी किसान 5 दिसंबर को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन की चेतावनी दी है. साथ ही कृषि कानून को रद्द करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाने का भी आग्रह किया है.

यह भी पढ़ें: कैप्टन अमरिंदर पर भड़के केजरीवाल, कहा- अब कोई राज्य नहीं रोक सकता कृषि कानून

बेनतीजा साबित हुई बैठक

राजधानी दिल्ली के विज्ञान भवन में किसान संगठन और केंद्र सरकार के मंत्रियों के बीच एक बैठक आयोजित हुई थी. केंद्र सरकार लगातार दावा कर रही है कि किसानों के लिए एमएसपी जारी रहेगा.

लेकिन किसान इसे मानने से इनकार कर रहे हैं. किसानों का कहना है कि सरकार एमएसपी को भी कानून का हिस्सा बनाए.

करीब 3 घंटा तक चली इस बैठक में कोई ठोस नतीजा नहीं निकला इसलिए अब किसानों का आंदोलन और तेज हो गया है. Meeting government and farmers

‘मत कीजिए हमारा भला’ Meeting government and farmers

बीते दिनों होने वाली बैठक में किसान संगठन के प्रतिनिधि ने साफ कह दिया था कि आप लोग ऐसा कानून लाए हैं जिससे हमारी जमीने बड़े कॉरपोरेट ले लेंगे, आप कॉरपोरेट को इसमे मत लीजिए.

अब समिति बनाने का समय नहीं है. आप कहते हैं कि आप किसानों का भला करना चाहते हैं, हम कह रहे हैं कि आप हमारा भला मत कीजिए. यह बैठक भी विज्ञान भवन में आयोजित हुई थी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

देश में बीते 24 घंटों में दर्ज हुए 35 हजार कोरोना के नए मामले, 526 की मौत