Gujarat Exclusive > देश-विदेश > महाराष्ट्र से घर जाने के लिए निकला था प्रवासी मजदूर, 350 किलोमीटर चला और हो गई मौत

महाराष्ट्र से घर जाने के लिए निकला था प्रवासी मजदूर, 350 किलोमीटर चला और हो गई मौत

0
1424

देश में कोरोना वायरस से बचाव के चलते लॉकडाउन लगाया गया है. 4 मई से इसका तीसरा चरण शुरू होगा, जोकि दो हफ्ते का है. इस दौरान आपने प्रवासी मजदूरों के साइकिल या पैदल ही हजारों किलोमीटर का सफर तय कर घर लौटने के कई किस्से सुने होंगे लेकिन बीते दिन मध्य प्रदेश के बरवानी में घर लौटने की चाह रखने वाले एक ऐसे ही मजदूर की मौत हो गई. मृतक का नाम तबरक अंसारी बताया जा रहा है. वह उत्तर प्रदेश का रहने वाला था और महाराष्ट्र के भिवंडी में नौकरी करता था. दो दिन पहले उसने महाराष्ट्र से 10 और मजदूरों के साथ साइकिल से घर लौटने का फैसला किया था.

उसके समूह के रमेश कुमार गोंड बताते हैं कि भिवंडी में पॉवर-लूम यूनिट में सभी की नौकरी चली गई. उनके पास घर लौटने के सिवा कोई रास्ता नहीं था. उन्होंने कहा, ‘हमारे पास न पैसे थे और न ही खाना था, तो हमने तय किया कि हम साइकिल से महाराजगंज (उत्तर प्रदेश) जाएंगे. जब हम 350 किलोमीटर चल चुके थे तो तबरक की तबीयत बिगड़ गई.’

पुलिस का कहना है कि ज्यादा थकान, डिहाइड्रेशन और हीट-स्ट्रोक मौत का कारण हो सकता है. मौत की असल वजह तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही साफ हो पाएगी. बता दें कि पिछले कुछ दिनों में इस तरह के दो मामले सामने आए हैं. मध्य प्रदेश का बरवानी महाराष्ट्र के बॉर्डर से सटा हुआ है. 21 अप्रैल को वकील नामक शख्स उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती स्थित अपने घर जाने को पैदल ही निकला था. बॉर्डर पार करते ही उसकी मौत हो गई. 28 अप्रैल को 45 वर्षीय बलीराम की भी बॉर्डर पार करते ही मौत हो गई. वह अस्थमा के मरीज थे और बरवानी के ही रहने वाले थे.

CM योगी का ग्राम प्रधानों को निर्देश, घर पहुंचने वाले सभी प्रवासियों की जांच जरूर कराएं