Gujarat Exclusive > देश-विदेश > मुंबई से गोरखपुर रवाना हुए साइकिल से प्रवासी मजदूर, कहा- न राशन बचा न पैसा…

मुंबई से गोरखपुर रवाना हुए साइकिल से प्रवासी मजदूर, कहा- न राशन बचा न पैसा…

0
4559

लॉकडाउन के कारण ट्रेनों के पहिए थमे हुए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी प्रवासी लोगों से जहां हैं, वहीं रहने की अपील की है. महाराष्ट्र सरकार ने प्रवासी मजदूरों के लिए रहने-खाने के इंतजाम का आश्वासन दिया है. इन तमाम प्रयासों के बावजूद प्रवासियों के अपने गांव-घर लौटने का सिलसिला थम नहीं रहा. कोई साधन नहीं मिल रहा तो अब श्रमिक साइकिल पर सवार होकर ही अपने घर लौटने लगे हैं.

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई से 20 श्रमिकों का जत्था साइकिल से ही 1700 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के लिए रवाना हुआ. इन मजदूरों ने राशन की समस्या के कारण इस तरह का निर्णय लेने का दावा किया. श्रमिकों ने सरकार पर मदद न करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके पास अब पैसे बचे नहीं थे, वहां काम चल नहीं रहा था. ऐसे में बचे पैसों से साइकिल खरीदकर घर लौटने के सिवाय उनके पास कोई और रास्ता नहीं बचा था.

मजदूरों ने अपनी मजबूरी बयान करते हुए कहा कि यदि वे घर नहीं गए तो यहां भूख से मर जाएंगे. ठाणे में राजमिस्त्री का कार्य करने वाले पिंटू ने कहा कि हम सबने मिलकर साइकिल खरीदने का फैसला किया, जिससे अपने घर पहुंच सकें. वहीं, अखिल प्रजापति ने कहा कि राशन बचा नहीं है, आमदनी हो नहीं रही. ऐसे में साइकिल से घर जाने के सिवाय कोई और रास्ता बचा नहीं था. उन्होंने मकान मालिक पर भी किराए के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया.

रेपिड टेस्ट किट की विश्वसनीयता पर उठे सवाल के बीच, नई सप्लाई लाने की मंजूरी