Gujarat Exclusive > देश-विदेश > LoC से लेकर LAC तक आंख दिखाने वालों को हमने जवाब दिया: पीएम मोदी

LoC से लेकर LAC तक आंख दिखाने वालों को हमने जवाब दिया: पीएम मोदी

0
1094

देश में आज स्वतंत्रता दिवस की 73वीं सालगिरह मनाई जा रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से आज सातवीं बार स्वतंत्रता दिवस के मौके पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा दिया है.
उन्होंने अपने भाषण में सबसे पहले देश के वीर जवानों को नमन करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी. लाल किले की प्राचीर से हुंकार भरते हुए पीएम ने कहा कि LoC से लेकर LAC तक जिसने भी हमें आंख दिखाई है, हमने उन्हें माकूल जवाब दिया है.

यह भी पढ़ें : स्वतंत्रता दिवस: पीएम ने कोरोना वॉरियर्स और शहीदों को किया याद

पीएम मोदी ने कहा,

‘हमारे जवान क्या कर सकते हैं इसे पूरी दुनिया ने लद्दाख में देखा.
इतनी आपदा के बाद भी सीमा पर देश के सामर्थ्य को चुनौती देने की गंदी कोशिश हुई है.
लेकिन LoC से लेकर LAC तक देश की संप्रभुता पर जिस किसी ने भी आंख उठाई, देश की सेना ने हमारे वीर जवानों ने उसका उसी की भाषा में जवाब दिया है.’

प्रधानमंत्री ने आगे कहा,

‘भारत की संप्रभुता की रक्षा के लिए पूरा देश एक जोश से भरा हुआ है.
संकल्पों से प्रेरित है और सामर्थ्य पर अटूट श्रद्धा से आगे बढ़ रहा है.
इस संकल्प के लिए हमारे वीर जवान क्या कर सकते हैं, देश क्या कर सकता है ये लद्दाख में दुनिया ने देख लिया है.’

साथ ही पीएम ने कहा कि मैं आज मातृभूमि पर न्योछावर उन सभी वीर जवानों को आदरपूर्वक नमन करता हूं.
आतंकवाद हो या विस्तारवाद भारत आज इसका डटकर मुकाबला कर रहा है.

रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा भारत के जितने प्रयास शांति और सौहार्द के लिए हैं, उतनी ही प्रतिबद्धता अपनी सुरक्षा के लिए, अपनी सेना को मजबूत करने की है.
उन्होंने कहा कि भारत अब रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए भी पूरी क्षमता से जुट गया है.
देश की सुरक्षा में हमारे बॉर्डर और कोस्टल इंफ्रास्ट्रक्चर की भी बहुत बड़ी भूमिका है.

आजादी के लिए कोने-कोने में प्रयास हुए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गुलामी का कोई कालखंड ऐसा नहीं था जब हिंदुस्तान में किसी कोने में आजादी के लिए प्रयास नहीं हुआ हो, प्राण-अर्पण नहीं हुआ हो.
हमें उन वीरों के योगदान को हमेशा याद रखना चाहिए.
अगले वर्ष हम आजादी के 75वें वर्ष में प्रवेश करेंगे.
तब हम अपने संकल्पों को पूर्ण करने के उत्सव के रूप में मनाएंगे.
हम ये ना भूलें कि गुलामी के लंबे समयकाल में कोई ऐसा नहीं रहा जिसने अपना योगदान आजादी के जनआंदोलन में न दिया हो.
हम आजादी के पर्व को आज मना पा रहे हैं ये उन्हीं वीरों की बदौलत हुआ है.

नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत, लद्दाख में चीन के अहम मुद्दों का भी जिक्र किया.
लाल किले से अपने भाषण में पीएम मोदी ने देश की बेटियों को भी सलाम किया.

उन्होंने कहा कि लड़कियों की शादी की सही आयु क्या हो, इसके लिए हमने कमेटी बनाई है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें