Gujarat Exclusive > राजनीति > कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का 93 साल की उम्र में निधन

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का 93 साल की उम्र में निधन

0
246

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा (Motilal Vora) का निधन हो गया है. उन्होंने 93 साल की उम्र में अंतिम सांस ली. खराब सेहत की वजह से मोतीलाल वोरा (Motilal Vora) को रविवार रात एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था. रविवार को ही उनका जन्मदिन था. लंबे समय तक कांग्रेस कोषाध्यक्ष रहे मोतीलाल वोरा (Motilal Vora) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री और उत्तरप्रदेश के राज्यपाल रहे.

मोतीलाल वोरा (Motilal Vora) कोरोना से भी संक्रमित हुए थे. उस वक्त उनका इलाज दिल्ली के एम्स अस्पताल में किया गया था. इलाज के बाद वो ठीक हो गए थे और अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके थे.

यह भी पढ़ें: भाजपा सांसद की पत्नी ममता की पार्टी से जुड़ीं, नाराज सौमित्र खान देंगे सुजाता को तलाक

राजनितिक गलियारे में शोक की लहर

मोतीलाल वोरा (Motilal Vora) के निधन पर राजनीति गलियारे में शोक की लहर दौड़ गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत अन्य नेताओं ने उनके निधन पर दुख जताया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, मोतीलाल वोरा जी उन वरिष्ठतम कांग्रेसी नेताओं में से थे, जिनके पास दशकों का व्यापक प्रशासनिक और संगठनात्मक अनुभव था. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवार और शुभचिंतकों के प्रति संवेदना. ओम् शांति:

वहीं राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ”वोरा जी एक सच्चे कांग्रेसी और अद्भुत इंसान थे. हम उन्हें बहुत मिस करेंगे. उनके परिवार और दोस्तों के प्रति मेरी संवेदना है.”

गांधी परिवार के थे बेहद करीबी

मोतीलाल वोरा (Motilal Vora) मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश के राज्यपाल रहे. राजनीति में आने से पहले मोतीलाल वोरा एक पत्रकार की भूमिका निभा रहे थे. 1993 में मोतीलाल वोरा ने उत्तर प्रदेश के गवर्नर के तौर पर जिम्मेदारी संभाली थी और 3 साल तक वह यूपी के राज्यपाल थे. मोतीलाल वोरा गांधी परिवार के बेहद करीबी थे. वह लंबे समय तक कांग्रेस में कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालते रहे थे. लेकिन साल 2018 में बढ़ती उम्र का हवाला देते हुए राहुल गांधी ने मोतीलाल वोरा से कोषाध्याक्ष की जिम्मेदारी लेकर अहमद पटेल को दे दी थी. हाल ही में अहमद पटेल का भी निधन हो गया था. लगातार दो दिग्गज नेताओं के निधन से कांग्रेस को भारी क्षति पहुंची है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें