Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > रबी फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी, गेहूं पर 50 रु. की बढ़ोतरी

रबी फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी, गेहूं पर 50 रु. की बढ़ोतरी

0
539

संसद के मॉनसून सत्र में राज्यसभा में आज विपक्षी सांसदों के हंगामे का मुद्दा गर्माया रहा. वहीं कृषि बिल के विरोध के बीच रबी फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की बढ़ोतरी को मंजूरी मिल गई है. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लोकसभा में नई कीमत बताईं. गेहूं के मूल्य में 50 रुपये की बढ़ोतरी जबकि चना पर 225 रुपये की बढ़ोतरी का ऐलान किया गया है.

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने ने रबी फसल पर एमएसपी (MSP) को मंजूरी दे दी. गेहूं का एमएसपी (MSP) 50 रुपये प्रति क्विंटन बढ़ाया गया. एमएसपी बढ़ने के बाद अब गेहूं 1975 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है.

यह भी पढ़ें: राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत 2017 से 2018 के बीच करीब 1200 लोग हुए गिरफ्तार

इसके अलावे चना के समर्थन मूल्य (MSP) में 225 रुपए प्रति क्विंटल, जौ के समर्थन मूल्य (MSP) में 75 रुपए प्रति क्विंटल, मसूर के समर्थन मूल्य (MSP) में 300 रुपए प्रति क्विंटल और सरसों एवं रेपसीड के समर्थन मूल्य (MSP) में 225 रुपए प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की गई है.

पीएम ने दिलाया था भरोसा

आज पीएम मोदी ने कहा था, “मैं देश के प्रत्येक किसान को इस बात का भरोसा देता हूं कि MSP की व्यवस्था जैसे पहले चली आ रही थी, वैसे ही चलती रहेगी. इसी तरह हर सीजन में सरकारी खरीद के लिए जिस तरह अभियान चलाया जाता है, वो भी पहले की तरह चलते रहेंगे.”

साथ ही उन्होंने कहा था, “किसानों को मिली इस आजादी के लाभ दिखाई देने शुरू हो गए हैं. खरीदारों ने सीधे कोल्ड स्टोरेज से किसानों से आलू खरीद लिए हैं. यूपी, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में दालें बहुत होती हैं. दाल मिलों ने वहां भी किसानों से खरीद कर सीधे ही भुगतान किया है.’’

8 सांसद हुए थे निलंबित

इससे पहले सभापति ने हंगामा करने वाले सांसदों के खिलाफ कार्रवाई की. हंगामा करने वाले विपक्षी दलों के 8 सांसदों को निलंबित कर दिया गया है. निलंबित होने वाले सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, रिपुन बोरा, नजीर हुसैन, केके रागेश, ए करीम, राजीव साटव, डोला सेन हैं. कल की घटना पर सभापति ने कहा कि ये राज्यसभा के लिए सबसे खराब दिन था. कुछ सांसदों ने पेपर को फेंका. माइक को तोड़ दिया. रूल बुक को फेंका गया. इस घटना से मैं बेहद दुखी हूं. उपसभापति को धमकी दी गई. उनपर आपत्तिजनक टिप्पणी की गई.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें