Gujarat Exclusive > राजनीति > राहुल गांधी पर नकवी ने किया पलटवार, बताया लफ्फाजी का लॉलीपॉप

राहुल गांधी पर नकवी ने किया पलटवार, बताया लफ्फाजी का लॉलीपॉप

0
179
  • राहुल गांधी पर भाजपा ने किया पलटवार
  • कहा लफ्फाजी के लॉलीपॉप हो गए हैं राहुल गांधी
  • बीते कुछ दिनों से राहुल गांधी केंद्र पर बोल रहे हैं हमला

केंद्र की मोदी सरकार पर अक्सर हमला बोलने वाले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पलटवार किया है.

उन्होंने राहुल को लफ्फाजी का लॉलीपॉप बताते हुए उधार की कविता लिखवाकर ट्वीट करने का आरोप लगाया है.

राहुल गांधी कोरोना, बेरोजगारी, चीन के साथ सीमा विवाद, कृषि बिल को लेकर मोदी सरकार पर पिछले कुछ दिनों से लगातार हमला बोल रहे हैं.

न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए नकवी ने कहा कि “राहुल गांधी लफ्फाजी का लॉलीपॉप हो गए हैं. लफ्फाजी से ज्यादा इनके पास और कुछ रह नहीं गया. रोज़ कहीं से उधार कविता लिखाकर ट्वीट कर देते हैं”

चीन के मुद्दे पर केंद्र सरकार का घेराव

जून महीने में लद्दाख की गलवान घाटी में होने वाले हिंसक हमले के बाद से लगातार राहुल गांधी मोदी सरकार पर हमला बोल रहे हैं.

राहुल ने इस हमले को लेकर मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए देशवासियों से चीन के मुद्दे पर झूठ बोलने का आरोप लगाया था.

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर लगाया हेल्थ वर्कर्स के अपमान का आरोप

कोरोना पर मोदी सरकार का घेराव

देश में बीते कुछ दिनों से कोरोना के नए मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं. आलम यह है कि देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या आधा करोड़ के पार पहुंच गई है.

कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर राहुल ने मोदी सरकार के नीतियों को जिम्मेदार ठहराया था. कोरोना पर काबू पाने के लिए की गई तालाबंदी के फैसले पर भी उन्होंने हमला बोलते हुए इसे एकतरफा फैसला बताया था.

प्रवासी मजदूरों की मौत की जानकारी केंद्र सरकार के पास नहीं

संसद के मानसून सत्र की कार्रवायी के पहले दिन विपक्ष ने मोदी सरकार से सवाल किया कि तालाबंदी के दौरान कितने प्रवासी मजदूरों की मौत हुई.

इसके जवाब में केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय ने कहा कि हमारे पास इसका को डाटा मौजूद नहीं है. इस मामले को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोला था.

राहुल ने ट्वीट कर लिखा “मोदी सरकार नहीं जानती कि लॉकडाउन में कितने प्रवासी मज़दूर मरे और कितनी नौकरियाँ गयीं.

तुमने ना गिना तो क्या मौत ना हुई? हाँ मगर दुख है सरकार पे असर ना हुई, उनका मरना देखा ज़माने ने, एक मोदी सरकार है जिसे ख़बर ना हुई.”

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

श्रम विधेयक पर राहुल गांधी का तंज, किसानों के बाद मजदूरों पर वार